भारत, नेपाल सीमा खंभों के लिए होगा उपग्रह प्रणाली का इस्तेमाल

Jun 27, 2016

भारत-नेपाल सीमा पर आठ हजार से अधिक खंभों को एक वैश्विक दिशा-निर्देशन उपग्रह प्रणाली से जोड़ा जाएगा.

इससे अधिकारियों को 17 हजार किलोमीटर से लंबी सीमा को पहली बार प्रभावी ढंग से प्रबंधित करने में मदद मिलेगी.
नेपाल के विदेश मंत्रालय ने कहा कि नेपाल-भारत सीमा खंभों के लिए नेपाल-भारत सीमा वैश्विक दिशा-निर्देशन उपग्रह प्रणाली (एनआईबी जीएनएसएस) का इस्तेमाल किया जाएगा.
मंत्रालय से जारी एक बयान में कहा गया कि शनिवार को काठमांडो में संपन्न हुई नेपाल-भारत सीमा कार्यकारी समूह की तीसरी बैठक में इस संबंध में फैसला किया गया.
तीन दिन तक चली बैठक में नेपाली प्रतिनिधिमंडल का नेतृत्व सर्वेक्षण विभाग के महानिदेशक कृष्ण राज बीसी ने किया, वहीं भारतीय प्रतिनिधिमंडल का नेतृत्व भारत के महासर्वेक्षक स्वर्ण सुब्बा राव ने किया.
बयान में कहा गया, ‘‘बीडब्ल्यूजी बैठक में एसओसी बैठकों और संयुक्त फील्ड सर्वेक्षण टीमों (एफएसटी) द्वारा रखी गई रिपोर्टों की समीक्षा की गई और नेपाल-भारत सीमा पर चल रहे सीमा कार्य पर हुई प्रगति की प्रशंसा की गई.’’
द हिमालयन टाइम्स ने बयान का हवाला देते हुए खबर दी कि पिछले अधूरे काम को पूरा करने को उच्च प्राथमिकता दी जाएगी.
इसने कहा, ‘‘दोनों प्रतिनिधिमंडलों ने प्रभावी सीमा प्रबंधन की पुन: पुष्टि की. इस परिप्रेक्ष्य में, उन्होंने स्थानीय अधिकारियों और सीमा के पास रहे रहे लोगों को संयुक्त फील्ड टीमों द्वारा किए जा रहे फील्ड कार्य के बारे में जागरूक बनाने के महत्व पर जोर दिया.’’
बीडब्ल्यूजी बैठक से पहले सर्वेक्षण अधिकारी समिति (एसओसी) की चौथी बैठक काठमांडो में 20 से 22 जून तक हुई थी.
दोनों देशों ने फैसला किया है कि एसओसी की अगली बैठक इस साल सितंबर में और बीडब्ल्यूजी की बैठक अगस्त 2017 में भारत में होगी.
अन्य ख़बरों से लगातार अपडेट रहने के लिए हमारे Facebook पेज को Join करे

 

लाइक करें:-
कमेंट करें :-
 

संबंधित ख़बरें

वायरल वीडियो

और पढ़ें >>

मनोरंजन

और पढ़ें >>
और पढ़ें >>