भारत के आंतरिक मामलों में दखल देना पाकिस्तान का कोई अधिकार नहीं: विदेश मंत्रालय

Jul 16, 2016

कश्मीर को लेकर भारत ने साफ कहा है कि पाकिस्तान उसके आंतरिक मामले में दखल देना बंद करे.

बुरहान वानी के मारे जाने को लेकर कश्मीरी लोगों के साथ एकजुटता प्रकट करने के लिए पाकिस्तान की ओर से 19 जुलाई को ‘काला दिवस’ मनाने का एलान किये जाने के बाद भारत ने कड़ा रूख अख्तियार करते हुए कहा कि इस्लामाबाद उसके आंतरिक मामले में आगे दखल देना और आतंकवाद एवं दूसरी गतिविधियों को सहयोग के माध्यम से क्षेत्र में हालात को अस्थिर करना बंद करे.
विदेश मंत्रालय ने आतंकवादियों का महिमामंडन जारी रखने को लेकर पाकिस्तान पर निशाना साधते हुए कहा कि यह स्पष्ट करता है कि पाकिस्तान की उनके प्रति सहानुभूति बनी हुई है.
विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता विकास स्वरूप ने कहा, ‘‘जम्मू-कश्मीर में हालात पर पाकिस्तान के कैबिनेट के फैसलों को भारत पूरी तरह और स्पष्ट रूप से खारिज करता है.’’
स्वरूप ने कहा, ‘‘हम अपने आंतरिक मामलों में पाकिस्तान की ओर से दखल दिए जाने के प्रयासों से निराश हैं. हम फिर से दोहराते हैं कि पाकिस्तान अथवा किसी दूसरे बाहरी पक्ष का कोई अधिकार नहीं बनता.’’
पाकिस्तानी प्रधानमंत्री नवाज शरीफ ने कश्मीर में सुरक्षा बलों के साथ मुठभेड़ में मारे गए हिज्बुल आतंकवादी बुरहान वानी को शुक्रवार को ‘शहीद’ करार दिया और कहा कि 19 जुलाई को कश्मीरी लोगों के साथ एकजुटता प्रकट करने के लिए ‘काला दिवस’ मनाया जाएगा.
लाहौर में कश्मीर में हालात पर चर्चा के लिए बुलाई गई कैबिनेट की विशेष बैठक को संबोधित करते हुए शरीफ ने कहा, ‘‘पाकिस्तान कश्मीरियों को आत्मनिर्णय के अधिकार के लिए उनके उचित संघर्ष में नैतिक, राजनीतिक और राजनयिक समर्थन देना जारी रखेगा.’’
भारत ने पाकिस्तान से यह भी कहा कि इस्लामाबाद उसके आंतरिक मामले में आगे दखल देने और आतंकवाद एवं दूसरी गतिविधियों को सहयोग के माध्यम से दक्षिण एशिया में हालात को अस्थिर करना बंद करे.
स्वरूप ने कहा, ‘‘जम्मू-कश्मीर में हालिया घटनाक्रमों से राजनीतिक लाभ लेने के लिए पिछले कुछ दिनों में पाकिस्तान के कदम नियंत्रण रेखा और अंतरराष्ट्रीय सीमा के उस पार से भारत में सुनियोजित घुसपैठ और आतंकवाद के बाद आये हैं.’’
उन्होंने कहा, ‘‘पाकिस्तान के अवैध कब्जे के तहत आने वाले क्षेत्रों में तथाकथित चुनावों की कड़ी में जम्मू-कश्मीर के लोगों के साथ खुद को जोड़ने के लिए पाकिस्तान की कई ताकतों द्वारा किये गये प्रयास कभी सफल नहीं होंगे.’’
स्वरूप ने कहा कि भारत यह भी उम्मीद करता है कि पाकिस्तान शांति और द्विपक्षीय संबंधों को सामान्य बनाने के लिए उठाए गए कदमों का रचनात्मक ढंग से जवाब देगा.
 अन्य ख़बरों से लगातार अपडेट रहने के लिए हमारे Facebook पेज को Join करे

 

लाइक करें:-
कमेंट करें :-
 

संबंधित ख़बरें

वायरल वीडियो

और पढ़ें >>

मनोरंजन

और पढ़ें >>
और पढ़ें >>