IIMC प्रोफेसर ने दिया इस्तीफा, कहा- ‘राजनीतिक फैसला’

Mar 05, 2016

भारतीय जनसंचार संस्थान (आईआईएमसी) के एक वरिष्ठ संकाय सदस्य ने इस्तीफा दे दिया!

उन्होंने आरोप लगाया कि दलित छात्र रोहित वेमुला की आत्महत्या और जेएनयू तथा एफटीआईआई मुद्दों पर विरोध प्रदर्शन का समर्थन करने के लिए सूचना और प्रसारण मंत्रालय ने उन्हें ‘निशाना’ बनाया.

अंग्रेजी पत्रकारिता विभाग में एसोसिएट प्रोफेसर अमित सेनगुप्ता ने ओडिशा के ढेंकानाल जिले में अग्रणी मीडिया स्कूल के कैंपस में तबादले के जारी आदेश के बाद इस्तीफा दे दिया. उन्होंने ‘राजनीतिक फैसला’ कहकर इसकी आलोचना की.

सेनगुप्ता ने अपने इस्तीफा पत्र में लिखा, ‘‘मुझे निशाना बनाया गया क्योंकि मैंने आईआईएमसी के छात्रों द्वारा कैंपस में स्वतंत्र रूप से आयोजित किये गए रोहित वेमुला के लिए एकजुटता प्रदर्शन में हिस्सा लिया, इसमें संकाय के अन्य सदस्य भी शामिल हुए थे. मुझे इसलिए निशाना बनाया गया क्योंकि मैंने जेएनयू और एफटीआईआई छात्रों का समर्थन किया.’’

राजनीतिक रूप से आईआईएमसी के संकाय सदस्य को निशाना बनाने के आरोपों को खारिज करते हुए सूचना और प्रसारण मंत्रालय के एक वरिष्ठ अधिकारी ने दावा किया कि सोशल मीडिया पर पोस्ट के जरिए कैंपस के राजनीतिकरण सहित सेनगुप्ता की अनुशानहीनता की कुछ हरकतों का पता चला था. हालांकि अधिकारी ने कहा कि ढेंकानाल कैंपस में संकाय की कमी के कारण सेनगुप्ता को ‘अस्थायी’ रूप से भेजा गया.

आरोपों पर प्रतिक्रिया में सेनगुप्ता ने कहा कि सोशल मीडिया पर रखा गया उनका नजरिया उनके निजी दायरे में हैं यह उनका ‘संवैधानिक अधिकार’ है.

 

लाइक करें:-
कमेंट करें :-
 

संबंधित ख़बरें

वायरल वीडियो

और पढ़ें >>

मनोरंजन

और पढ़ें >>
और पढ़ें >>