12 वर्षीय छात्रा को होमवर्क न करने पर शिक्षक ने 6 दिन तक दी ऐसी सजा, आप भी गुस्से से भर जाएंगे

Jan 27, 2018
12 वर्षीय छात्रा को होमवर्क न करने पर शिक्षक ने 6 दिन तक दी ऐसी सजा, आप भी गुस्से से भर जाएंगे

मध्य प्रदेश के आदिवासी बहुल झाबुआ जिले की एक शासकीय आवासीय स्कूल से एक शर्मना खबर सामने आई है। जहाँ की 12 वर्षीय एक छात्रा को होमवर्क नहीं करने पर शिक्षक द्वारा गलत तरह से सजा देते हुए 14 छात्राओं से दो-दो थप्पड़ लगवाए।

बता दें कि जिला मुख्यालय से 34 किलोमीटर दूर थांदला तहसील मुख्यालय पर स्थित जवाहर नवोदय आवासीय विद्यालय में 6 वीं कक्षा की छात्रा अनुष्का सिंह(12) के पिता शिवप्रताप सिंह ने घटना की शिकायत तीन दिन पूर्व संस्था के प्राचार्य से की। मिली जानकारी के मुताबिक पिछले दिनों अनुष्का बीमार हो गई थी। शासकीय अस्पताल में इलाज की पर्चियां भी उनके पास हैं। स्वस्थ होने पर 10 जनवरी को अनुष्का की मां उसे स्कूल छोड़ने गई। लेकिन हुआ ये कि कि स्कूल में विज्ञान के शिक्षक ने होमवर्क पूरा नहीं होने पर उक्त सजा सुना दी। उनके कहने पर कक्षा की 14 बालिकाओं ने अनुष्का को दो-दो थप्पड़ लगाने शुरू किए। कई दिनों तक चली।

ये भी पढ़ें :-  निमोनिया से पीड़ित 15 माह की बच्ची को तांत्रिक ने गर्म सलाख से दागा, हालत गंभीर

छात्रा के पिता ने बताया कि शिक्षक की इस हरकत के चलते बालिका बहुत डरी हुई है और अब स्कूल नहीं जाना चाहती। अभी उसका इलाज थांदला के सरकारी अस्पताल में चल रहा है। इस बारे में थांदला पुलिस थाने के प्रभारी निरीक्षक एसएस बघेल ने कहा कि छात्रा के पिता से इस मामले में शिकायत मिली है। उन्होंने कहा कि, ‘मेडिकल जांच में छात्रा को कोई चोट नहीं पाई गई है, लेकिन अन्य छात्राओं ने घटना की पुष्टि की है। हम मामले में आगे जांच कर रहे हैं। फिलहाल कोई मामला दर्ज नहीं किया गया है।’

दूसरी तरफ जवाहर नवोदय विद्यालय के प्राचार्य के.सागर ने प्रताड़ना की बात से इंकार कर मामले को सामान्य माना है। उनका कहना था विद्यालयीन नियमों के तहत अध्यापक बच्चों को सजा नहीं दे सकते, इसलिए जिस विद्यार्थी से गलती हुई है, उसके साथी विद्यार्थी ही उसे थप्पड़ लगाकर सजा दे रहे हैं। इस व्यवस्था को फ्रेंडली सजा माना जाता है।

ये भी पढ़ें :-  शर्मनाक: बदमाशों ने काट दिया दूल्हे का प्राइवेट पार्ट, 5 दिन बाद होनी वाली थी शादी
लाइक करें:-
 

संबंधित ख़बरें

वायरल वीडियो

और पढ़ें >>

मनोरंजन

और पढ़ें >>
और पढ़ें >>