भगवान पर नही रहा भरोसा,पूजा–पाठ बंद, घर से हटाई देवी–देवताओं की मूर्तियां

Jun 22, 2016
तीन साल पहले उत्तराखंड में आई तबाही में लापता हुए इलाहाबाद के विपिन भारती भी उन बदनसीबों में शामिल हैं, जिनका आज तक कोई पता नहीं चल सका है। बचपन में ही माँ- बाप की मौत के बाद छोटे भाई- बहनों के लिए दिन- रात पसीना बहाने वाले विपिन के लापता होते ही उसके परिवार पर मुसीबतों का पहाड़ टूट पड़ा है। पैसों के अभाव में पहले एक बहन की शादी टूटी, फिर छोटे भाई की पढ़ाई बंद हुई और अब तो बीमार बहन का इलाज भी नहीं हो पा रहा है। तीन साल बीत गए हैं, लेकिन सरकारी मदद के तौर पर विपिन के परिवार वालों को अब तक फूटी कौड़ी भी नसीब नहीं हुई है। क़ौमी रिपोर्टर के अनुसार इस हादसे के बाद विपिन के छोटे भाई – बहनों को अपनी तकदीर से इस कदर शिकायत हो गई है कि इन्होने भगवान की पूजा- अर्चना बंद कर घर में रखी देवी- देवताओं की मूर्तियों को भी हटा दिया है।
इलाहाबाद के इस परिवार के आंसू पिछले तीन साल से थमने का नाम नहीं ले रहे हैं। एक तरफ लापता भाई की जुदाई का ग़म है तो दूसरी तरफ पेट भरने और आगे की ज़िंदगी बसर करने की फ़िक्र। टैक्सी चलाकर परिवार का पेट पालने वाला विपिन अपने छोटे भाई और दोनों बहनों के लिए भगवान की तरह था। विपिन इन तीनों का बड़ा भाई तो था ही, पर उसने अपने लाड- प्यार और परवरिश से इन्हे कभी माँ- बाप की कमी नहीं महसूस होने दी। भाई- बहनो की परवरिश में कोई कमी न रह जाए, इसके लिए विपिन ने अपनी शादी नहीं की थी।
उत्तराखंड की तबाही में गुम होने से पहले विपिन ने छोटी बहन मोनी का ब्याह तय कर दिया था, भाई मनीष का बीएससी में एडमिशन करा दिया था और लखनऊ के एक अस्पताल में दूसरी बहन सोनी का इलाज शुरू कर दिया था। बहन की शादी वह खूब धूमधाम से करना चाहता था, इसीलिये उसने कई महीने पहले ही गेस्ट हाउस बुक कर शादी का कार्ड भी खरीद लिया था। उत्तराखंड के टूर से लौटते ही उसे बहन की शादी का लाल जोड़ा खरीदना था।
बहन की शादी और उसका इलाज है चुनौती:
विपिन की याद में बहन सोनी की तबीयत और खराब होने लगी, लेकिन पैसों की कमी के चलते फेफड़ों का इलाज बीच में ही बंद करना पड़ा। उत्तराखंड से लेकर यूपी और तत्कालीन केंद्र सरकार ने पीड़ित परिवारों को लाखों रूपये की मदद करने का एलान किया था, लेकिन विपिन के परिवार को अभी फूटी कौड़ी भी नहीं नसीब हुई है। परिवार एक – एक पैसे को तरस रहा है। महीने भर पहले रिश्तेदारों ने किसी तरह मोनी की शादी कर दी है, लेकिन छोटी बहन सोनी का इलाज और उसकी शादी कैसे होगी, यह अब भी सवाल बना हुआ है।
पूजा – पाठ बंद, घर से हटाई देवी – देवताओं की मूर्तियां:
तीनो भाई- बहन के आंसू थमने का नाम नहीं लेते, लेकिन तीनो इस मुश्किल घड़ी में एक – दूसरे का सहारा बने रहते हैं। सोनी- मोनी और मनीष तीनों को ही अपनी तकदीर से बड़ी शिकायत है। उनका मानना है कि भगवान ने उनके भाई और परिवार पर कोई कृपा क्यों नहीं की। विपिन को भगवान की तरह मानने वाले तीनो भाई- बहन का इस कदर कुदरत से भरोसा उठ गया है कि उन्होंने अब न सिर्फ पूजा- अर्चना और ईश्वर की आराधना बंद कर दी है, बल्कि घर में रखी देवी – देवताओं की मूर्ति को भी हटा दिया है।
अन्य ख़बरों से लगातार अपडेट रहने के लिए हमारे Facebook पेज को Join करे
लाइक करें:-
कमेंट करें :-
 

संबंधित ख़बरें

वायरल वीडियो

और पढ़ें >>

मनोरंजन

और पढ़ें >>
और पढ़ें >>