हाफ़िज़ सईद की दाढ़ी में कितने बाल हैं यह मालूम है मीडिया को, लेकिन नजीब का किसी को कुछ पता नहीं

Nov 08, 2016
हाफ़िज़ सईद की दाढ़ी में कितने बाल हैं यह मालूम है मीडिया को, लेकिन नजीब का किसी को कुछ पता नहीं

अखिल भारतीय विस्फोटक परिषद (ABVP) के आतंकियों से सिर्फ बेटी ही नहीं बेटा बचाने की भी जरूरत है। कानून के हाथ लंबे हैं लेकिन मोदी ने बांध रखे हैं, नजीब को पीटने वाले एबीवीपी के गुंडों के खिलाफ कार्रावाई न होना और नजीब का 24 दिन बाद भी कोई सुराग न मिलना इसका जीता जागता उदाहरण है। यह तो रही पुलिस की भूमिका अब जरा मीडिया की भूमिका भी देख लीजिये, आईबीएन-7 हाफिज सईद के बारे में बता रहा है कि वह ‘बचेगा नहीं’ जी न्यूज बगदादी के बारे में बता रहा है कि वह घायल हो चुका है और फलां अस्पताल में उसका इलाज चल रहा है,

आज तक वाली बता रही है कि दिल्ली में प्रदूषण का आपातकाल है, दिल्ली मर रही है। कल कोई मीडिया वाला चैनल बगदादी के बारे में बहुत ‘बारीक’ जानकारी दे रहा था। इन टीबी वालों को सब पता है, हाफिज सईद की दाढ़ी में कितने बाल हैं यह भी मालूम है, बगदादी किस अस्पताल में भर्ती है यह भी मालूम नहीं हैं। जहां इनके रिपोर्टर हैं वहां की जानकारी तो इनके पास है ही मगर अजूबा देखिये कि जहां इनका कोई संवाददाता कभी गया ही नहीं वहां की खबरें भी इनके पास हैं। सवाल पूछने का अधिकार सिर्फ मीडिया को ही नहीं है बल्कि मीडिया से भी सवाल पूछने का अधिकार है। इन तमाम मीडिया वालों की नाक के नीचे से एक JNU का एक छात्र पिछले 24 दिन से गायब है वह कहां है इसकी खबर मीडिया वालो को नहीं है। उसी मीडिया को जिसे एक आतंकी बगदादी की पल पल की जानकारी रहती है उसे अपने ही देश के छात्र का कोई अता पता नही है। भारत माता जैसे सब्जेक्ट पर महीनों तक प्राईम टाईम में कबाड़ा बहस करने वाले मीडिया हाऊस को एक अपने बेटे के लिये रोती बिलखती, दर दर भटकती मां नहीं दिखती।(Wasim Akram Tyagi की कलम से  )

अन्य ख़बरों से लगातार अपडेट रहने के लिए हमारे Facebook पेज को Join करे

लाइक करें:-
कमेंट करें :-
 

संबंधित ख़बरें

वायरल वीडियो

और पढ़ें >>

मनोरंजन

और पढ़ें >>
और पढ़ें >>