गृहमंत्री ने पुलिस सुरक्षा बढ़ाई, अफ्रीकियों पर हमले के मामले में आठ गिरफ्तार

May 30, 2016

दिल्ली में अफ्रीकी नागरिकों पर हमलों को लेकर नाराजगी के माहौल के बीच मामले में आठ लोगों को गिरफ्तार किया गया है वहीं गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने पुलिस को हमलावरों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करने का और अफ्रीकी नागरिकों की बसावट वाले इलाकों में गश्त तेज करने को कहा है.

पुलिस उपायुक्त (दक्षिण) ईश्वर सिंह ने कहा, ‘‘बाबू, ओमप्रकाश, अजय और राहुल नाम के चार आरोपियों को गिरफ्तार किया गया है और पांचवें आरोपी को चोट पहुंचाने और गलत तरीके से बंधक बनाने के आरोपों में पकड़ा गया है जो नाबालिग है.’’
जांचकर्ताओं ने कहा कि चार और लोगों को हिरासत में लिया गया और पूछताछ की जा रही है.
हमलों की घटनाओं में कम से कम छह अफ्रीकी नागरिक घायल हो गये. पुलिस ने बृहस्पतिवार की दोनों घटनाओं के लिए एक में अफ्रीकी नागरिकों द्वारा तेज आवाज में संगीत बजाने और दूसरे में सार्वजनिक रूप से शराब पीने पर स्थानीय लोगों के ऐतराज की वजह बताई.
एक पुलिस अधिकारी ने हमलों में छड़ों या बल्लों के इस्तेमाल की बात को खारिज करते हुए कहा कि ऐसा होता तो अलग तरह की चोट आतीं. उन्होंने कहा कि एक महिला को नाक में चोट आई है.
इससे पहले गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने हमले की निंदा की और दिल्ली पुलिस आयुक्त आलोक वर्मा को अपने आवास पर बुलाकर आरोपियों पर कड़ी कार्रवाई का निर्देश दिया.
सिंह ने ट्वीट किया, ‘‘दिल्ली के पुलिस आयुक्त से कुछ अफ्रीकी नागरिकों के खिलाफ हमलों की घटनाओं के संबंध में बात की. इस तरह की घटनाएं निंदनीय हैं.’’
उन्होंने ट्वीट किया, ‘‘दिल्ली के पुलिस आयुक्त को हमलावरों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करने का और सभी की सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए उनके इलाकों में गश्त बढ़ाने का निर्देश दिया.’’
इससे पहले विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने गृहमंत्री और दिल्ली के उपराज्यपाल नजीब जंग से घटना के बारे में बात की थी. उन्होंने कहा कि जिन इलाकों में अफ्रीकी नागरिक रहते हैं, उनमें संवेदनशीलता बढ़ाने के लिए अभियान चलाया जाएगा.
विदेश मंत्री ने अपने ट्विटर संदेश में कहा, ‘‘मैंने दक्षिण दिल्ली में अफ्रीकी नागरिकों पर शनिवार के हमले के बारे में राजनाथ सिंह जी और दिल्ली के उपराज्यपाल से बात की. उन्होंने आश्वासन दिया कि दोषी जल्द ही गिरफ्तार किए जाएंगे और उन क्षेत्रों में लोगों को संवेदनशील बनाने का अभियान भी चलाया जाएगा जहां अफ्रीकी नागरिक रहते हैं.’’
सुषमा ने एक अन्य ट्वीट में लिखा, ‘‘मैंने राज्यमंत्री जनरल वीके सिंह और सचिव अमर सिन्हा को अफ्रीकी छात्रों से मिलने को कहा है जिन्होंने जंतर मंतर पर प्रदर्शन की घोषणा की है.’’
विदेश मंत्रालय में सचिव (आर्थिक संबंध) सिन्हा हमलों के बाद अफ्रीकी समुदाय के लोगों के साथ संपर्क में हैं.
इस बीच विदेश राज्यमंत्री वीके सिंह ने दावा किया कि अफ्रीकी नागरिकों पर हमला मामूली झड़प थी और मीडिया इसे अनावश्यक रूप से बढ़ा-चढ़ाकर दिखा रही है.
उन्होंने कहा, ‘‘मीडिया ऐसा क्यों कर रही है? जिम्मेदार नागरिक उनसे सवाल पूछें और उनका उद्देश्य जानें.’’
विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता विकास स्वरूप ने अलग से कहा कि सरकार कांगो के मारे गये युवक मासुंदा कितांदा ओलिवर के परिवार को भारत आने और उसके शव को ले जाने में मदद करेगी.
स्वरूप ने कहा, ‘‘मासुंदा ओलिवर की दुर्भाग्यपूर्ण मौत के मामले में सरकार उनके परिवार को भारत की यात्रा करने और उनके शव को लेने में मदद करेगी. हम अपने खर्च पर उनका पार्थिव शरीर कांगो लोकतांत्रिक गणराज्य ले जाने का इंतजाम करेंगे.’’
अफ्रीकी देशों के राजदूतों ने ओलिवर की हत्या पर गुरूवार को आक्रोश जताया था जिसके बाद भारत ने अफ्रीकी नागरिकों की सुरक्षा का भरोसा दिलाया था.
ताजा घटनाओं के संबंध में पुलिस ने कहा कि ये अलग अलग घटनाएं हैं और संगठित तरीके से हमलों जैसी कोई बात नहीं है.
इस बीच शनिवार से पुलिस ने इलाके के कई आवासीय संघों के साथ बैठकें की हैं.
ईश्वर सिंह ने नागरिकों से कहा, ‘‘वे हमारे देश आये हैं. वे हमारे मेहमान हैं. वे केवल इसलिए यहां आये हैं क्योंकि हम पर भरोसा करते हैं.’’
उन्होंने कहा, ‘‘आप जिस तरह का बर्ताव उनके साथ करते हैं, उसका असर बाहर रहने वाले हमारे भाइयों पर होगा. जिस तरह कांगो के युवक की हत्या के बाद भारतीयों पर हमले किये गये.’’
अन्य ख़बरों से लगातार अपडेट रहने के लिए हमारे Facebook पेज को Join करे

 

लाइक करें:-
कमेंट करें :-
 

संबंधित ख़बरें

वायरल वीडियो

और पढ़ें >>

मनोरंजन

और पढ़ें >>
और पढ़ें >>