हिंदू कराते हैं, मुस्लिम से ज्यादा नाबालिग लड़कियों की शादी: रिपोर्ट

May 31, 2016

साल 2011 के जनसंख्या आंकड़ों की रिपोर्ट के मुताबिक भारत में हर तीन शादीशुदा महिलाओं में से एक की शादी 18 साल की उम्र से पहले हुई है। चौंका देने वाली बात तो यह है कि 78.5 लाख लड़कियों की शादी तो 10 साल की उम्र से पहले ही करा दी गई । साथ ही आंकड़ों से यह भी पता लगा है कि सभी शादीशुदा महिलाओं में से 91 फीसदी की शादी 25 साल की उम्र से पहले ही हो गई थी। आंकड़ों में एक बात और सामने आई है कि बाल विवाह का आंकड़ा मुस्लिमों से भी हिंदू धर्म में है। शादी के लिए कानूनी उम्र लड़की के लिए 18 वर्ष और लड़के के लिए 21 वर्ष है ।

आंकड़ों के मुताबिक 30.2 फीसदी शादीशुदा महिलाओं की शादी 18 साल की उम्र से पहले ही हो गई थी। हालांकि, यह आंकड़ा पिछले दशक में ज्यादा था। साल 2001 के आंकड़ों में ऐसी महिलाओं की संख्या 43.15 फीसदी थी।

कम उम्र में शादी की यह प्रथा लगभग सभी समुदायों में पाई जाती है। आंकड़ों के मुताबिक कम उम्र में लड़की की शादी के आंकड़े हिंदू और मुस्लिम समुदाय में लगभग बराबर हैं। 31.3 फीसदी हिंदू महिलाओं की शादी 18 साल की उम्र से पहले कर दी गई, जो कि साल 2001 में 45.1 फीसदी थीं। वहीं मुस्लिम समुदाय की बात की जाए तो यहां ऐसी महिलाओं की संख्या 30.6 फीसदी है जो कि साल 2001 में 43.1 फीसदी थीं।

ईसाई धर्म में 12 फीसदी महिलाओं की शादी 18 साल की उम्र से पहले कर दी गई। यह आंकड़ा साल 2001 में 16.4 फीसदी था। वहीं सिख धर्म में भी ऐसी महिलाओं की संख्या साल 2001 के 17 फीसदी से घटकर 10.9 फीसदी रह गई है। बुद्ध धर्म में 27.8 फीसदी और जैन धर्म में 16.2 फीसदी महिलाओं की शादी 18 साल की उम्र से पहले कर दी गई।

अन्य ख़बरों से लगातार अपडेट रहने के लिए हमारे Facebook पेज को Join करे

लाइक करें:-
कमेंट करें :-
 

संबंधित ख़बरें

वायरल वीडियो

और पढ़ें >>

मनोरंजन

और पढ़ें >>
और पढ़ें >>