हिन्दुओ को अपने नियम त्यागकर 10-10 बच्चे पैदा करने चाहिए, भगवान् उन्हें अपने आप पालेगा- शंकराचार्य वासुदेवानंद

Dec 26, 2016
हिन्दुओ को अपने नियम त्यागकर 10-10 बच्चे पैदा करने चाहिए, भगवान् उन्हें अपने आप पालेगा- शंकराचार्य वासुदेवानंद

देश में अचानक से हिंदुत्व का मुद्दा गरमा गया। बीजेपी के कुछ नेताओ और मंत्रियो ने हिन्दुओ को ज्यादा बच्चे पैदा करने वकालत पहले ही कर चुके है। वही गोरखपुर से बीजेपी के सांसद योगी आदित्यनाथ ने कहा था कि पति-पत्नी को जेल में बंद कर देना चाहिए जिससे की वो ज्यादा से ज्यादा बच्चे पैदा करे। इन सभी नेताओ और मंत्रियो का तर्क था की देश में मुस्लिमो की जनसँख्या, हिन्दुओ के मुकाबले ज्यादा तेजी से बढ़ रही है। इसलिए हिन्दूओ को भी उसी अनुपात में बच्चे पैदा करने होगे। तब इस तरह के बयानों की खूब आलोचना हुई थी। लेकिन एक बार फिर यह मुद्दा उठा है।

ये भी पढ़ें :-  मप्र : भूमिहीनों के मामले में शिवराज को सुननी पड़ी खरी-खरी

नागपुर में आरएसएस द्वारा आयोजित तीन दिवसीय धर्म संस्कृति महाकुम्भ का रविवार को समापन हुआ। इस कार्यक्रम में कई ऋषियों, शंकराचार्य , महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेन्द्र फडनविस , सिटी मेयर प्रवीन दातके और असम के राज्यपाल बनवारीलाल पुरोहित शामिल हुए। आरएसएस के इस महाकुम्भ में वक्ताओं ने हिंदुत्व पर ज्यादा जोर दिया। यही वजह थी की महाकुम्भ का समापन भी ‘हिन्दू बचाओ’ के नारे के साथ हुआ। ज्योतिर्मठ के शंकराचार्य वासुदेवानंद सरस्वती ने हिन्दुओ की संतुलित जनसँख्या पर चिंता व्यक्त की, उन्होंने कहा की हिन्दुओ को भी दो बच्चो का नियम त्यागकर 10-10 बच्चे पैदा करने चाहिए। हिन्दुओ को यह नही सोचना चाहिए की उनको कौन पलेगा, भगवान् सब बच्चो का पालन पोषण करेगा। नोटबंदी का समर्थन करते हुये वासुदेवानंद ने गोहत्या पर बोलते हुए कहा की प्रधानमंत्री मोदी को इस पर ऐसे ही निर्णय लेना चाहिए जैसे नोट बंदी पर लिया।

ये भी पढ़ें :-  चुनावी मौसम में बेफ़िक्र मुलायम ने घर पर मनाया पोती का जन्मदिन
लाइक करें:-
कमेंट करें :-
 

संबंधित ख़बरें

वायरल वीडियो

और पढ़ें >>

मनोरंजन

और पढ़ें >>
और पढ़ें >>
error: 24hindinews.com\'s content is copyright protected
error: 24hindinews.com\'s content is copyright protected