फिल्म ‘पद्मावत’ के विरोध में हिंदूवादी नेता ने दी सुप्रीम कोर्ट और संसद पर हमले की धमकी, हुआ देशद्रोह का केस

Jan 24, 2018
फिल्म ‘पद्मावत’ के विरोध में हिंदूवादी नेता ने दी सुप्रीम कोर्ट और संसद पर हमले की धमकी, हुआ देशद्रोह का केस

फिल्म ‘पद्मावत’ को सुप्रीम कोर्ट की तरफ से हरी झंडी मिलने के बाद भी फिल्म के निर्देशक संजय लीला भंसाली की मुश्किलें कम होने का नाम नहीं ले रही हैं। फिल्म को लेकर देश के कई राज्यों में फिल्म का विरोध लगातार किया जा रहा है। लेकिन हद तो तब हो गई जब सुप्रीम कोर्ट को ही एक हिंदूवादी नेता ने हमले की धमकी दे डाली।

बता दें कि फिल्म ‘पद्मावत’ का सोशल मीडिया पर भी काफी विरोध किया जा रहा है। इन दिनों सोशल मीडिया पर एक वीडियो वायरल हुई जिसमे अखिल भारतीय क्षत्रिय संगठन की युवा इकाई का उपाध्यक्ष संसद, सुप्रीम कोर्ट पर हमले की धमकी देता हुआ नजर आ रहा है। इतना ही नहीं बल्कि अखिल भारतीय क्षत्रिय संगठन ने वीडियो जारी कर सुप्रीम कोर्ट और संसद पर हमले की धमकी दी थी। वीडियो के सामने आने के बाद धमकी देने वाले आरोपी की पहचान भुवनेश्वर सिंह के रूप में हुई है। जहाँ उसने वीडियो में आरोप लगाया कि सुप्रीम कोर्ट ने पद्मावती की तुलना बैंडिट क्वीन से की है।

ये भी पढ़ें :-  बॉलीवुड की मशहूर अभिनेत्री ने रचाई एक मुसलमान लड़के से शादी, रखा इतना प्यारा नाम

हालांकि इस मामले को गंभीरता से लेते हुए पुलिस ने आरोपी शख्स के खिलाफ देशद्रोह का केस दर्ज कर लिया है। उसके खिलाफ धारा 124 (a), 506 और आईटी एक्ट की धारा 67 के तहत एफआईआर दर्ज की गई है। हालाँकि अभी तक आरोपी फरार बताया जा रहा है। इस बारे में पुलिस का कहना है कि आरोपी की गिरफ्तारी के लिए छापेमारी की जा रही है। फिल्म रिलीज़ होने से पहले कानपुर के एक मॉल मल्टीप्लेक्स में करणी सेना के करीब एक दर्जन सदस्यों ने संजय लीला भंसाली की फिल्म पद्मावत के खिलाफ प्रदर्शन किया। थानाध्यक्ष ने बताया कि करणी सेना के सदस्यों ने फिल्म के पोस्टर फाड़ दिए, शीशे तोड़े और वहां मल्टीप्लेक्स के कर्मचारियों के साथ अभद्रता की।

ये भी पढ़ें :-  सलमान नहीं बल्कि इस अभिनेत्री के कारण नहीं कर रही है कैटरीना शादी, नाम जानकर रह जायेंगे हैरान

फिल्म के के मामले पर सुप्रीम कोर्ट में चीफ जस्टिस ने कहा कि ये कोई इतिहास से छेड़छाड़ नहीं है। विशेषज्ञों ने फिल्म देखी है और इसमें डिस्‍कलेमर भी है। लोगों को समझना चाहिए कि सुप्रीम कोर्ट ने आदेश जारी किया है इसका पालन होना चाहिए। हालांकि राज्य लोगों को सलाह दे सकता है कि फिल्म ना देखें।

लाइक करें:-
 

संबंधित ख़बरें

वायरल वीडियो

और पढ़ें >>

मनोरंजन

और पढ़ें >>
और पढ़ें >>