हिमाचल प्रदेश: गोहत्या पर मोदी सरकार कानून बनाए: HC

Jul 30, 2016

हिमाचल प्रदेश उच्च न्यायालय ने केन्द्र को कहा कि गोहत्या रोकने के लिए राष्ट्रीय स्तर पर कोई भी कानून केन्द्र द्वारा बनाया जाना चाहिए.

हिमाचल प्रदेश उच्च न्यायालय ने शुक्रवार को कहा कि गोहत्या रोकने, गो मांस और इससे बने उत्पादों के आयात, निर्यात या बिक्री पर रोक के लिए राष्ट्रीय स्तर पर कोई भी कानून केन्द्र द्वारा बनाया जाना है.

उच्च न्यायालय ने केन्द्र को इस संबंध में छह महीने के भीतर आवश्यक कार्रवाई करने को कहा.

 

भारतीय गोवंश रक्षा संवर्धन परिषद द्वारा दायर याचिका का निपटान करते हुए न्यायमूर्ति राजीव शर्मा और न्यायमूर्ति सुरेर ठाकुर की खंडपीठ ने कहा, ‘‘ इस अदालत ने केन्द्र को तीन महीने के भीतर गोहत्या रोकने, गो मांस और इससे बने उत्पादों के आयात, निर्यात या बिक्री पर रोक लगाने के लिए कानून बनाने का सुझाव दिया है, लेकिन केन्द्र सरकार ने एक हलफनामे में कहा है कि यह विषय राज्य की सूची में आता है और केवल पांच राज्यों और एक केंद्र शासित प्रदेश के पास इस विषय पर कोई कानून नहीं है.’’

‘‘ हालांकि, केन्द्र सरकार ने इस बात पर ध्यान नहीं दिया कि यह विषय समवर्ती सूची में भी है और राष्ट्रीय स्तर पर कानून बनाने का विकल्प उसके पास खुला है.’’

अन्य ख़बरों से लगातार अपडेट रहने के लिए हमारे Facebook पेज को Join करे

लाइक करें:-
कमेंट करें :-
 

संबंधित ख़बरें

वायरल वीडियो

और पढ़ें >>

मनोरंजन

और पढ़ें >>
और पढ़ें >>