दलीप ट्रॉफी: दूसरे दिन समझ में आने लगी गुलाबी गेंद

Aug 24, 2016
दलीप ट्रॉफी: दूसरे दिन समझ में आने लगी गुलाबी गेंद
गुलाबी गेंद से खेले जा रहे भारत के पहले डे-नाइट प्रथम श्रेणी मुकाबले के पहले दिन गेंदबाजों ने 17 विकेट लेकर बल्लेबाजों की कमर तोड़ दी थी।

अभिषेक त्रिपाठी, ग्रेटर नोएडा। गुलाबी गेंद से खेले जा रहे भारत के पहले डे-नाइट प्रथम श्रेणी मुकाबले के पहले दिन जहां गेंदबाजों ने 17 विकेट लेकर बल्लेबाजों की कमर तोड़ दी थी तो वहीं दूसरे दिन इंडिया रेड के ओपनर अभिनव मुकुंद (122) ने सुदीप चटर्जी (104) के साथ 210 रनों की नाबाद साझेदारी करके बताया कि गुलाबी कूकाबूरा गेंद को खेलना इतना मुश्किल भी नहीं है।

शहीद विजय सिंह पथिक स्पो‌र्ट्स कांप्लेक्स में हो रहे दलीप ट्रॉफी मुकाबले के पहले ही दिन इंडिया रेड की पहली पारी 48.2 ओवर में 161 रनों पर ध्वस्त हो गई थी, जबकि इंडिया ग्रीन ने 34.3 ओवर में सिर्फ 116 रनों पर सात विकेट गंवाए थे। लेकिन बुधवार को इंडिया रेड के बल्लेबाजों ने गुलाबी गेंद के हौव्वे को खत्म करते हुए शानदार बल्लेबाजी का मुजाहिरा पेश किया। 116 रन से आगे खेलने शुरू करने वाली इंडिया ग्रीन की टीम सिर्फ 151 रनों पर ऑलआउट हो गई और इस आधार पर इंडिया रेड को दस रनों की बढ़त मिली। इसके बाद इंडिया रेड ने दूसरी पारी में सिर्फ एक विकेट खोकर 249 रन बना लिए थे।

नाथू ने लिए छह विकेट

अपनी गति से चयनकर्ताओं की निगाहों का केंद्र बने नाथू सिंह ने इंडिया ग्रीन के छह विकेट झटके। 21 वर्षीय नाथू ने 12.4 ओवर में 53 रन दिए। राजस्थान के नाथू लगातार 140 किमी प्रति घंटा की रफ्तार से गेंद फेंकने के अलावा इसे स्विंग कराने में भी माहिर हैं। इसका नजारा उन्होंने बुधवार को सुरेश रैना की कप्तानी वाली इंडिया ग्रीन के खिलाफ पेश किया। वह मंगलवार को ही तीन विकेट अपने नाम कर चुके थे। ग्रीन ने पहले दिन के स्कोर 116 रन पर सात विकेट से आगे खेलना शुरू किया। सौरभ तिवारी और अशोक डिंडा की जोड़ी ने अभी 23 रन ही जोड़े थे कि नाथू दिन की पहली कामयाबी लेकर आए। उन्होंने डिंडा (17) को बोल्ड किया। इंडिया ग्रीन अगर 151 रन तक पहुंच पाया तो इसका श्रेय सौरभ को जाता है, जिन्होंने सात चौकों और एक छक्के की मदद से 50 रन बनाए। इंडिया ग्रीन के लिए आउट होने वाले आखिरी दो बल्लेबाज प्रज्ञान ओझा (0)और सौरभ ही रहे। इनके विकेट भी नाथू सिंह के खाते में गए। अंकित राजपूत बिना रन बनाए नाबाद रहे। इंडिया रेड के लिए नाथू सिंह के अलावा चाइनामैन गेंदबाज कुलदीप यादव भी तीन विकेट लेने में सफल रहे।

अभिनव और सुदीप की जोड़ी

दस रन की बढ़त के बाद दूसरी पारी में बल्लेबाजी करने उतरी इंडिया रेड का दूसरी पारी में स्कोर 39 रन ही हुआ था कि कोना भरत (20) आउट हो गए। अंकित राजपूत ने उन्हें बोल्ड किया, लेकिन इसके बाद मुकुंद और चटर्जी ने कोई भी विकेट नहीं गिरने दिया। खबर लिखे जाने तक दोनों ने दूसरे विकेट के लिए 210 रनों की साझेदारी के साथ 249 रन बना लिए थे।

भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआइ) सितंबर में दौरे में आ रही न्यूजीलैंड और भारत के बीच डे-नाइट टेस्ट मैच का आयोजन कराना चाहता था लेकिन न्यूजीलैंड क्रिकेट बोर्ड ने मना कर दिया। इसके बाद बोर्ड ने तय किया कि वह पहली बार देश में दूधिया रोशनी में दलीप ट्रॉफी का आयोजन करेगा और इसके बाद तय करेगा कि यहां पर गुलाबी गेंद से डे-नाइट टेस्ट मैच हो सकता है कि नहीं। हालांकि पहले मैच के पहले ही दिन दो बार फ्लड लाइट बंद हो गई थी। दलीप ट्रॉफी में इंडिया रेड, इंडिया ग्रीन और इंडिया ब्लू टीमें खेल रही हैं और इसमें फाइनल सहित कुल चार मुकाबले खेले जाएंगे।

लाइक करें:-
कमेंट करें :-
 

संबंधित ख़बरें

वायरल वीडियो

और पढ़ें >>

मनोरंजन

और पढ़ें >>
और पढ़ें >>