युवराज समेत टीम इंडिया के इन 5 दिग्गजों का अब तक आइपीएल में रहा निराशाजनक प्रदर्शन

Jun 04, 2016
आइपीएल में शानदार प्रदर्शन करने वाले कई क्रिकेटर्स को पहचान मिली। आइपीएल में बेहतरीन प्रदर्शन से कई खिलाड़ियों के लिए टीम इंडिया में चयन के अवसर बढ़े लेकिन कुछ क्रिकेटर्स के मामले

नई दिल्ली। आइपीएल में शानदार प्रदर्शन करने वाले कई क्रिकेटर्स को पहचान मिली। आइपीएल में बेहतरीन प्रदर्शन से कई खिलाड़ियों के लिए टीम इंडिया में चयन के अवसर बढ़े लेकिन कुछ क्रिकेटर्स के मामले में ये बात एकदम उल्टी रही। भारतीय टीम के लिए इन खिलाड़ियों ने तो अच्छा प्रदर्शन किया मगर आइपीएल में वो अपने प्रदर्शन से ज्यादा प्रभावित नहीं कर पाए। नजर डालते हैं उन पांच भारतीय क्रिकेटर्स पर-

1. युवराज सिंह :

युवराज सिंह देश के दिग्गज मैच विजेता खिलाड़ी रहे हैं। टी-20 विश्व कप 2007 और विश्व कप 2011 में उन्होंने कई मैच विजयी पारियां खेलकर टीम को खिताब दिलाए। लेकिन आइपीएल में वे अपनी ख्याति के मुताबिक प्रदर्शन नहीं कर पाए। आइपीएल में वे 105 पारियों में म25.39 के औसत से मात्र 2336 रन ही बना पाए। उनका स्ट्राइक रेट भी 130.14 ही रहा। यह प्रदर्शन उनकी काबिलियत के लिहाज से कम ही कहा जाएगा।

2. ईशांत शर्मा :

एक समय ईशांत भारत के तेज गेंदबाजी की पहचान थे। जब उन्होंने ऑस्ट्रेलियाई पिचों पर कंगारू बल्लेबाजों को अपनी गति और उछाल से परेशान किया था। अब वे उम्मीदों पर खरे नहीं उतर पा रहे हैं और उन्हें आशीष नेहरा की तरह जबर्दस्त वापसी करनी होगी। आइपीएल में तो उनका प्रदर्शन अच्छा नहीं रहा है। वे 70 आइपीएल मैचों में 35.34 के प्रदर्शन से मात्र 58 विकेट ही ले पाए हैं।

3. मोहम्मद शमी :

शमी ने वनडे में 24.6 की औसत से गेंदबाजी की है, लेकिन आइपीएल में उनके आंकड़ें निराश करने वाले हैं। वे टीम इंडिया के नियमित गेंदबाज है, लेकिन आइपीएल में उनका कभी दबदबा नहीं रह पाया है। आइपीएल में उन्होंने 23 मैचों में 53.15 की औसत से मात्र 13 विकेट लिए हैं। वैसे उनका इकानॉमी रेट 9 से कम रहा है, लेकिन वे इस लीग में अपनी प्रतिभा के साथ न्याय नहीं कर पाए हैं।

4. उमेश यादव :

इस सूची में तीसरा नाम भी तेज गेंदबाज का हैं, यह गेंदबाज है उमेश यादव । उन्हें इसी टूर्नामेंट से पहचान मिली थी, लेकिन अब पांच वर्षों बाद उनका आइपीएल की बजाए राष्ट्रीय टीम की तरफ से प्रदर्शन बेहतर रहा है। उन्होंने 80 आइपीएल मैचों में 30 की औसत से 74 विकेट झटके हैं। उनका इकानॉमी रेट 8.41 रहा है।

5. दिनेश कार्तिक :

दिनेश कार्तिक फॉर्म में होते हैं तो देश में उनसे अच्छा कोई विकेटकीपर नहीं है, लेकिन ऐसा यदाकदा ही होता है। वे हमेशा महेंद्रसिंह धौनी की छाया में ही रहे, लेकिन उन्होंने अपनी पहचान बनाई। लेकिन आइपीएल में 121 पारियों में वे 23.76 की औसत से 2542 रन ही बना पाए। उनका स्ट्राइक रेट 124.24 रहा। यह आंकड़ें खराब नहीं है, लेकिन उन्हें जैसी कीमत मिलती रही, उसके लिहाज से यह प्रदर्शन ठीक नहीं है।

लाइक करें:-
कमेंट करें :-
 

संबंधित ख़बरें

वायरल वीडियो

और पढ़ें >>

मनोरंजन

और पढ़ें >>
और पढ़ें >>