गुटबाजी के खिलाफ राहुल ने दिया कड़ा संदेश

Jul 30, 2016

कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने पार्टी में गुटबाजी के खिलाफ कड़ा संदेश देते हुए कार्यकर्ताओं से अपनी ताकत को पहचानने का आह्वान किया और संदेश दिया कि जमीन पर रहकर जनता के बीच रहने वाले कार्यकर्ताओं को ही पार्टी में आगे बढ़ाया जाएगा.

राहुल ने शुक्रवार को लखनऊ में ‘यूपी उद्घोष’ कार्यक्रम के दौरान कार्यकर्ताओं के सवालों के जवाब देते हुए केन्द्र की नरेन्द्र मोदी सरकार पर सिर्फ कुछ गिने-चुने उद्योगपतियों के लिये काम करने का आरोप लगाते हुए उस पर तल्ख हमले किये.

‘मिशन-2017’ के लिये कांग्रेस की नयी टीम के गठन के बाद पहली बार लखनऊ आए राहुल ने प्रदेश संगठन में गुटबाजी के सवाल पर स्पष्ट संदेश देते हुए कहा ”उत्तर प्रदेश को पहले नम्बर पर लाना हमारा लक्ष्य है. हमारा जो रास्ता और दिशा है उसे लेकर कांग्रेस के अंदर आमराय है. अगर कोई उसके खिलाफ काम करेगा, चाहे वह कितना ही बड़ा हो, उसके खिलाफ सख्त से सख्त कार्रवाई होगी.”

उन्होंने कहा कि कांग्रेस आगामी विधानसभा चुनाव को एक योजना बनाकर लड़ेगी. उसमें हर नेता को कोई ना कोई जिम्मेदारी दी जाएगी. नेता को जमीन पर उतरकर महीने में 20-25 दिन लड़ना पड़ेगा. जो लोग जमीन पर और जनता के बीच दिखाई देंगे. वे लोग जिनके जूते फटेंगे, जिनका कुर्ता गीला होगा, वे ही कांग्रेस को आगे बढ़ाएंगे.

दिल्ली की पूर्व मुख्यमंत्री 78 वर्षीय शीला दीक्षित को उत्तर प्रदेश में मुख्यमंत्री पद का उम्मीदवार बनाए जाने के औचित्य के सवाल पर राहुल ने कहा कि सोच आयु से ज्यादा जरूरी चीज होती है. शीला में व्यापक अनुभव है, उन्होंने दिल्ली में तीन बार राज किया और उसे बदल दिया.

उन्होंने कहा कि दिल्ली में लोग अपनी गलती पर पछता रहे हैं. वे कहते हैं कि पहले काम होता था, अब सिर्फ ड्रामा और बयानबाजी होती है. विधायक जेल जाते हैं.

आगामी विधानसभा चुनाव में कांग्रेस का सीधा मुकाबला किस पार्टी से होगा, इस सवाल पर राहुल ने सीधा जवाब देने से बचते हुए कहा कि अगर कांग्रेस अपने कार्यकर्ताओं की आवाज पर चली तो आगामी विधानसभा चुनाव में उसके सामने कोई खड़ा नहीं हो सकेगा.

उन्होंने कहा ”मैं चाहता हूं कि हमारे कार्यकर्ता को जमीनी नेताओं को जगह दी जाए और हम अपनी विचारधारा और नीतियों पर लड़ें. पार्टी की विचारधारा हर जाति, हर धर्म और हर सोच के व्यक्ति को जगह देने की है. विधानसभा में किसी एक का एकाधिकार ना चले और गरीब से गरीब की आवाज ऊपर तक पहुंचे.”

लोकसभा में कल ‘अरहर मोदी’ के अपने तंज का जिक्र करते हुए कांग्रेस उपाध्यक्ष ने कहा ”मोदी जी तीन-चार चुने हुए उद्योगपतियों के लिये काम कर रहे हैं. उन्होंने पहले आपकी जमीन छीनने की कोशिश की अब आपकी थाली से दाल छीनने की कोशिश कर रहे हैं. हम किसानों के भले के लिये और महंगाई के खिलाफ आंदोलन करेंगे और मोदी जी को समझाएंगे कि देश की गरीब जनता आपको झूठे वादों को नहीं मानती.”

प्रधानमंत्री मोदी के बुलेट ट्रेन चलाने के वादे पर तंज करते हुए राहुल ने कहा ”मोदी जी बुलेट ट्रेन चलाने की बात कर रहे हैं. देश का रेल बजट एक लाख 40 हजार करोड़ का है. एक बुलेट ट्रेन का दाम एक लाख करोड़ है. मतलब मोदी जी एक बुलेट ट्रेन पर पूरा रेल बजट खर्च करना चाहते हैं. सवाल यह भी है कि बुलेट ट्रेन में बैठेगा कौन. उसमें बैठने का दाम प्रतिव्यक्ति 10-15 हजार से कम नहीं होगा.”

प्रधानमंत्री मोदी के ‘स्वच्छता अभियान’ पर भी हमला करते हुए राहुल ने कहा ”मोदी जी ने कहा कि मैं भारत को साफ कर दूंगा…क्या हिन्दुस्तान साफ हो गया. क्या साफ हो गया लखनऊ, साफ हो गया वाराणसी, साफ हो गया यूपी, साफ हो गया दिल्ली. कुछ दिन बाद मोदी ने झाड़ू रख दी. कांग्रेस भोजन के अधिकार की बात करती है तो उसे देती है. सूचना के अधिकार की बात करती है तो उसे देती है. यह फर्क है हममें और उनमें.”

देश में दलित उत्पीड़न की बढ़ती घटनाओं पर कांग्रेस उपाध्यक्ष ने कहा कि पूरे देश में कमजोरों को दबाया जा रहा है. मोदी और राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ उन्हें दबा रहे हैं. गुजरात, उत्तर प्रदेश और हरियाणा में दलितों को दबाया और मारा जा रहा है. जब भी उन्हें इस बारे में पता चलता है तो वह वहां पहुंच जाते हैं. वह चाहते हैं कि पूरी कांग्रेस कमजोरों और गरीबों के लिये लड़े. यह सिर्फ दलित की बात नहीं है. यह किसान, अल्पसंख्यक, आदिवासियों की भी बात है.

कांग्रेस के ’27 साल, यूपी बेहाल’ के नारे के पीछे की सोच को जाहिर करते हुए उन्होंने कहा 27 साल से अलग-अलग पार्टियां उत्तर प्रदेश को तोड़ने में लगी हैं. कोई जाति की बात करता है तो कोई हिन्दू-मुस्लिम को लड़ाता है, मगर उत्तर प्रदेश की बात कोई नहीं करता. अगर कांग्रेस ने अपनी सोच उत्तर प्रदेश की जनता को ठीक तरीके से बतायी तो वह प्रदेश में अगली सरकार बनाएगी.

राहुल ने कांग्रेस कार्यकर्ताओं का आह्वान किया ”आप लोग अपनी शक्ति को पहचानें. आप कांग्रेस के कार्यकर्ता हैं. आपके खून में कांग्रेस की विचारधारा है…उसे दिल से बाहर निकालिये. उसके बारे में अगर आप बोलना शुरू करेंगे, लड़ना शुरू करेंगे तो पूरा यूपी आपको सुनेगा. कांग्रेस हिन्दुस्तान की सचाई की भाषा बोलती है. उसका कार्यकर्ता संघ, बसपा, सपा के कार्यकर्ता की तरह झूठ की राजनीति नहीं करता.”

भाजपा और सपा द्वारा मिलकर उत्तर प्रदेश को नफरत की आग में जलाने की कथित साजिश के बारे में कांग्रेस उपाध्यक्ष ने कहा कि सपा और भाजपा एक हिन्दुस्तानी को दूसरे हिन्दुस्तानी से लड़ाने का काम करते हैं. कांग्रेस एक-दूसरे को जोड़ने की कोशिश करती है. हम अलग-अलग जाति और धर्म के लोगों को जोड़ने का कार्यक्रम लाएंगे.

उन्होंने कहा ”हम ऐसा हिन्दुस्तान नहीं चाहते हैं, जहां किसी को भी यह लगे कि इस देश में उसे जगह नहीं मिलती है. कोई यह ना कहे कि मैं जो सोचता हूं उसे दबाया जा रहा है. हर नागरिक को लगना चाहिये चाहे वह किसी भी जाति धर्म या लिंग का हो, उत्तर प्रदेश हमारा प्रदेश है. यह कांग्रेस की सोच है. यह सोच 27 साल से यूपी में दबाई और मिटायी गयी है. इस प्रदेश को तोड़ा गया है, लड़ाया गया है. यह हम बदलना चाहते हैं. सिर्फ कांग्रेस ही इस बदल सकती है.”

राहुल ने कहा कि कांग्रेस सिर्फ यूपी में नहीं बल्कि पूरे देश के कोने-कोने में जिंदा है. कांग्रेस ना केवल एक संगठन है बल्कि एक सोच भी है. जो नेता और कार्यकर्ता गांवों में काम करते और खून-पसीना बहाते हैं, उन्हें आगे बढ़ाया जाएगा.

उत्तर प्रदेश की पुलिसिंग के बारे में पूछे गये सवाल पर उन्होंने कहा कि सूबे के पुलिस स्टेशन राजनीतिक दफ्तर बने हुए हैं. कांग्रेस थानों से राजनीति को बाहर निकालकर सही कानून-व्यवस्था दिलाएगी. अगर कोई पुलिसवाला गड़बड़ करेगा तो उसे हटाया जाएगा.

अन्य ख़बरों से लगातार अपडेट रहने के लिए हमारे Facebook पेज को Join करे

 

लाइक करें:-
कमेंट करें :-
 

संबंधित ख़बरें

वायरल वीडियो

और पढ़ें >>

मनोरंजन

और पढ़ें >>
और पढ़ें >>