मोदी ने दिया सुझाव, महिला दिवस पर सिर्फ महिला बोलें

Mar 03, 2016

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने संसद में कुछ अलग करने का सुझाव देते हुये कहा कि महिला दिवस पर सिर्फ महिलाओं को बोलने और किसी सत्र में कुछ समय सिर्फ पहली बार चुन कर आये सदस्यों को बोलने के लिये निर्धारित किया जाये.

मोदी ने गुरुवार को लोकसभा में राष्ट्रपति के अभिभाषण पर हुयी चर्चा का उत्तर देते हुये कहा कि संसद में हमें कभी कभार कुछ हटकर करना चाहिये. यहां हमें कभी राजनीति को छोड़कर राष्ट्रनीति पर विचार करना चाहिये. देश से जुड़े अहम मसलों पर सामूहिक चिंतन करना चाहिये.

इस सिलसिले में उन्होंने सुझाव दिया कि महिला दिवस पर सिर्फ महिला सदस्य बोलें. उन्होंने कहा कि संसद की कार्यवाही उसी तरह चले और जो अन्य काम होता है वह किया जाये लेकिन सिर्फ महिला सदस्य को बोलने दिया जाये. इसी तरह किसी सत्र में कुछ समय सिर्फ पहली बार चुन कर आये सदस्यों को बोलने के लिये निर्धारित किया जाये.

उन्होंने कहा कि वह यह सुझाव इसलिये नहीं दे रहे हैं कि वह खुद पहली बार चुन कर आये हैं. उन्होंने कहा कि पहली बार आये सदस्यों को बोलने से सदन में ताजगी भरी हवा बहेगी. वे बहुत सी नयी चीजें हमारे सामने रख सकते हैं.

उन्होंने प्राथमिक शिक्षा के स्तर को लेकर गहरी चिंता जताते हुये कहा कि बालकों को कैसी शिक्षा मिल रही है यह पीड़ा का विषय है. उन्होंने कहा कि अदालतों में बड़ी संख्या में लंबित मुकदमे हैं. इस समस्या से कैसे निपटा जाये इस पर अलग से चर्चा की जा सकती है.

 

लाइक करें:-
कमेंट करें :-
 

संबंधित ख़बरें

वायरल वीडियो

और पढ़ें >>

मनोरंजन

और पढ़ें >>
और पढ़ें >>