हरियाणा: जाट आंदोलन का दूसरा दिन, 8 जिलों में धारा 144 लागू

Jun 06, 2016

हरियाणा के 15 जिलों के गांवों में जाट आंदोलनकारियों का धरना-प्रदर्शन जारी है, जो अभी तक शांतिपूर्ण है. लोगों में तनाव को देखते हुए सूबे में कड़ी सुरक्षा व्यवस्था की गई है.

हरियाणा में आरक्षण की मांग को लेकर शुरू हुए जाट आंदोलन का सोमवार को दूसरा दिन है. पुलिस आंदोलनकारियों पर कड़ी नजर रख रही है. इस आंदोलन की शुरुआत रविवार को हरियाणा के जींद से हुई थी.

करीब तीन महीने पहले जाटों के हिंसक आंदोलन में 30 लोगों की मौत के बाद जाट नेताओं ने कड़ी सुरक्षा के बीच फिर से हरियाणा में अपना प्रदर्शन शुरू किया है.

ये भी पढ़ें :-  प्रधानमंत्री ने शादी तो की, मगर घर नहीं बसाया : भाजपा सांसद

दूसरी ओर, हरियाणा में जाट नेताओं की ओर से आरक्षण को लेकर ताजा आंदोलन शुरू करने के मद्देनजर राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली के कई हिस्सों में निषेधाज्ञा लगा दी गई. दिल्ली पुलिस ने बताया कि धारा 144 शहर के एक चौथाई से अधिक क्षेत्र में लगाई गई है. अधिकतर क्षेत्रों में जहां निषेधाज्ञा लगाई गई है वे या तो हरियाणा से लगे सीमावर्ती इलाके हैं या वहां जाट समुदाय के लोग बड़ी संख्या में रहते हैं.

जानकारी के अनुसार, राज्य के 15 जिलों के 15 गांवों में जाट समुदाय के लोग धरने पर बैठे हैं. पहले दिन धरना-प्रदर्शन शांतिपूर्ण रहने के बाद सरकार और प्रशासन को थोड़ी राहत मिली है.

ये भी पढ़ें :-  सुब्रह्मण्यम स्वामी का विवादित सुझाव- कश्मीर में प्रदर्शन से निपटने के लिए कम की जाये आबादी

इस बार जाट आरक्षण संघर्ष समिति ने शहरों की बजाय गांवों में ही धरना प्रदर्शन का फैसला लिया है. साथ ही रेल और सड़क मार्ग पर धरना नहीं देने का आश्वासन दिया गया है. यह धरना प्रदर्शन 15 दिन तक चलेगा. हालांकि, इस बार सरकार ने सुरक्षा के कड़े इंतजाम किए है जिसकी वजह से अब तक प्रदर्शन पूरी तरह शांतिपूर्ण है. सरकार ने प्रदर्शन के लिए जगह तय कर दी है जहां एक वक्त में 200 से ज्यादा लोगों के इकट्ठा होने पर पाबंदी लगा दी गई है.

अन्य ख़बरों से लगातार अपडेट रहने के लिए हमारे Facebook पेज को Join करे

ये भी पढ़ें :-  प्रधानमंत्री, राष्ट्रपति समेत सभी केंद्रीय मंत्रियों की गाड़ी से हटेगी लालबत्ती- जेटली
लाइक करें:-
कमेंट करें :-
 

संबंधित ख़बरें

वायरल वीडियो

और पढ़ें >>

मनोरंजन

और पढ़ें >>
और पढ़ें >>