गूगल, याहू से सुप्रीम कोर्ट ने कहा-36 घंटे में लिंग परीक्षण का विज्ञापन नहीं हटा तो कार्रवाई

Nov 16, 2016
गूगल, याहू से सुप्रीम कोर्ट ने कहा-36 घंटे में लिंग परीक्षण का विज्ञापन नहीं हटा तो कार्रवाई
देश में लिंगानुपात की स्थिति घटने पर सुप्रीम कोर्ट ने नाराजगी जाहिर की है। कहा है कि लिंग परीक्षण की प्रवृत्ति से समाज में महिला-पुरुष के अनुपात का अंतर बढ़ रहा है। आलम यह है कि लड़कों को शादी के लिए लड़कियां नहीं मिल रहीं हैं। इसे गंभीरता से लेते हुए बुधवार को सुप्रीम कोर्ट ने गूगल, याहू, माइक्रोसाफ्ट आदि सर्च इंजन से लिंग परीक्षण से जुड़े विज्ञापन तत्काल हटाने को कहा है।
नोडल एजेंसी करे कार्रवाई

 मामले पर अंतिम सुनवाई 17 फरवरी को होगी।  सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र सरकार को ऐसे विज्ञापनों के खिलाफ एक्शन के लिए नोडल एजेंसी का गठन करने को कहा।  यह एजेंसी शिकायतों को सर्च इंजनों को देगी और फिर सर्च इंजन ऐसी सूचनाओं और विज्ञापनों को 36 घंटे में हटाएंगे। सुनवाई के दौरान सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि ऐसे हालात हो गए हैं कि लड़कों को शादी के लिए लड़कियां नहीं मिल रही हैं। लड़का कैसे होगा और लड़की कैसे होगी? ऐसी जानकारी की देश में कोई जरूरत नहीं।
 अन्य ख़बरों से लगातार अपडेट रहने के लिए हमारे Facebook पेज को Join करे
लाइक करें:-
कमेंट करें :-
 

संबंधित ख़बरें

वायरल वीडियो

और पढ़ें >>

मनोरंजन

और पढ़ें >>
और पढ़ें >>