प्रेमिका की जिद पर झुका प्रेमी: चार दिनों तक प्रेमी के दरवाजे पर ही बैठी रही, थाने में रचाई शादी..

Oct 10, 2017
प्रेमिका की जिद पर झुका प्रेमी: चार दिनों तक प्रेमी के दरवाजे पर ही बैठी रही, थाने में रचाई शादी..

बिहार के दरभंगा जिले के अलीनगर थाना क्षेत्र में एक कठोर प्रेमी को अपनी प्रेमिका की जिद पर झुकना पड़ा, और बहुत कोशिश के बाद प्रेमी ने अपने प्रेमिका को जीवनसाथी बनाने का फैसला किया।

बता दें कि ये प्रेम कहानी का अजीबो-गरीब मामला बिहार के दरभंगा जिले के अलीनगर थाना क्षेत्र का है। जहाँ के पुलिस रिपोर्ट के अनुसार हुआ ये कि सुपौल जिले के मरौना थाना क्षेत्र के रहने वाले बालेश्वर चौपाल की बेटी सरिता कुमारी और दरभंगा जिले के अलीनगर थाना क्षेत्र निवासी मुनेश्वर साह के बेटे इंद्रजीत की मुलाकात एक साल पहले एक शादी के प्रोग्राम में ही हुई थी। यहीं पर इन दोनों की आंखें एक दूसरे से लड़ीं थीं। दोनों ने यहीं से एक दूसरे को पसंद कर लिया। समय गुज़रने के साथ- साथ इनका प्यार भी बढ़ता चला गया। यहाँ तक कि इन दोनों ने एक साथ जीने और मरने की कसमें भी खाईं। लेकिन इन दोनों ने अपने घरवालों से छुप कर लगातार एक दूसरे से मिलते रहे। इसके बाद सरिता ने अपने वादे के मुताबिक, इंद्रजीत से शादी करने की बात शुरू की। लेकिन, इंद्रजीत अपने घरवालों के डर से किसी न किसी बहाने शादी टालता रहा।

लेकिन दूसरी तरफ सरिता ने हिम्मत दिखाई और एक सप्ताह पूर्व अकेले ही दरभंगा अपने प्रेमी के घर पहुंच गई और अपने प्रेमी के साथ रहने के लिए जिद पर अड़ गई। लेकिन इंद्रजीत के परिवार वाले तैयार नहीं हुए। लेकिन अपनी जिद पर अड़ी प्रेमिका सरिता ने भी हिम्मत नहीं हारी बल्कि चार दिनों तक प्रेमी के दरवाजे पर ही बैठी रही। जिसके बाद गांव वालों को ये देखकर उनका मन पसीजा और सभी लोग लड़की के पक्ष में खड़े हो गए, और इसके लिए गांववालों ने लड़के के परिजनों पर शादी करने का दबाव बनाने लगे, लेकिन लड़के के घरवाले किसी भी सूरत में लड़की को अपनाने के लिए तैयार नहीं थे। इतना ही नहीं बल्कि इंद्रजीत भी अपनी प्रेमिका को पहचानने से इनकार करता रहा। गांव वालों के दबाव के बाद भी जब लड़के वाले सरिता को अपनाने के लिए तैयार नहीं हुए, तब उन्होंने पुलिस से मदद मांगी।

जब वहां पर पुलिस पहुंची पुतो उनको भी काफी जद्दोजहद के बाद किसी तरह दबाव बनाकर लड़के के माता-पिता को शादी के लिए तैयार किया। सूत्रों के अनुसार अलीनगर के थाना प्रभारी संजय कुमार सिंह ने बताया कि सोमवार को ग्रामीणों के सहयोग से पुलिस की उपस्थिति में प्रेमी जोड़े की शादी अलीनगर थाना परिसर में पारंपरिक तरीके और हिंदू रीति-रिवाज से कराई गई। जहाँ न केवल विवाह मंडप सजा, बल्कि पुलिसकर्मी बाराती बने और पारंपरिक तरीके से विवाह संपन्न कराया गया। इसके अलावा इस विवाह समारोह में गांव के लोगों ने भी हिस्सा लिया और महिलाओं ने भी शादी के मंगल गीत गाए। शादी के बाद सरिता का कहना है, “सुना था कि सच्चे प्यार की हमेशा जीत होती है, आज यह देख भी लिया। आज मेरे प्यार की भी जीत हुई है।” लेकिन उसने आगे कहा कि इस बात का अफसोस जरूर है कि उसकी शादी पुलिस के हस्तक्षेप के बाद थाना परिसर में हुई, हालांकि उसे इस बात का सुकून भी है कि उसका जीवनसाथी मिल गया। बहरहाल, ये विवाह आसपास के क्षेत्रों में काफी मशहूर हो रहा है। जहाँ लोग इसे सच्चे प्यार की जीत बता रहे हैं।

लाइक करें:-
 

संबंधित ख़बरें

वायरल वीडियो

और पढ़ें >>

मनोरंजन

और पढ़ें >>
और पढ़ें >>