जर्मनी: म्यूनिख में ओलंपिया शॉपिंग मॉल में 18 साल के शूटर ने की गोलीबारी, 9 लोगों की मौत

Jul 23, 2016

म्यूनिख.जर्मनी के म्यूनिख में ओलंपिया शॉपिंग मॉल में हुई गोलीबारी में 9 लोगों के मारे जाने की खबर है। इनमें एक शूटर भी बताया जा रहा है। साथ ही, 16 लोग घायल हुए हैं। पुलिस रिपोर्ट की मानें तो शूटर ने हमला करने के बाद खुद को भी गोली मार ली। जिस सस्पेक्ट को पुलिस हमलावर बता रही है, वो ईरानी मूल का है। उसकी उम्र 18 साल बताई जा रही है। यूरोप में 8 दिन में यह तीसरा हमला है। दो हमले जर्मनी और एक फ्रांस में हो चुका है।
घटना लोकल टाइम के मुताबिक शुक्रवार शाम 4 बजे की है। शूटर के पास सिर्फ एक पिस्टल थी। उसने सबसे पहले शॉपिंग मॉल के मैक्डॉनाल्ड रेस्टारेंट को अपना निशाना बनया। सस्पेक्ट शूटर की बॉडी पुलिस को मिल चुकी है। हमले का क्या मकसद था, इस बात का पता नहीं चल सका है। पुलिस ने मॉल के आसपास का एरिया बंद कर दिया है। साथ ही, लोगों को सड़कों से दूर रहने के लिए कहा है। पुलिस ने पब्लिक ट्रांसपोर्ट सिस्टम को भी बंद कर दिया था, जिसे अब चालू कर दिया गया है। म्यूनिख में इमरजेंसी लगा दी गई है। इसके साथ शहर में स्पेशल फोर्सेस के 2300 जवानों को भी तैनात कर दिया गया। भारतीय विदेश मंत्रालय ने कहा है कि म्यूनिख में सभी भारतीय सेफ हैं, लेकिन सरकार ने सिटिजन्स को म्यूनिख नहीं जाने की सलाह दी है। ‘मॉल की ओर बढ़े ही थे कि हमला हो गया’
राजकोट के चिंतन आचार्य ने बताया कि शाम आठ बजे वे दफ्तर से निकले। वहां से ओलंपिया मॉल सिर्फ 10 मिनट की दूरी पर है। इसके नीचे रेलवे स्टेशन है। वे अपने मित्र सौरभ शाह के साथ मॉल की तरफ निकले। रास्ते में ही देखा कि बड़ी तादाद में बदहवास लोग दौड़ते आ रहे हैं। बच्चे-महिलाएं रोते-रोते भाग रहे थे। शूटिंग… शूटिंग…चिल्ला रहे थे। वे कुछ समझ पाते तब तक 100 से अधिक पुलिस की गाड़ियां और एम्बुलेंस पास से गुजरीं। सायरनों से इलाका गूंज उठा। पूरा इलाका पुलिस ने घेर लिया। चिंतन को भी रास्ते से लौटा दिया गया। उन्होंने घर के लिए बस पकड़ी ही थी कि पब्लिक ट्रांसपोर्ट रोक दिया गया। आशंका थी कि हमलावर भाग निकले हैं। वे बस से उतरकर पैदल ही घर पहुंचे। लोग घरों में बंद हैं। शहर में खौफ का माहौल है। चिंतन म्यूनिख में एक कंपनी में सॉफ्टवेयर इंजीनियर हैं। उन्होंने परिवार को यह जानकारी दी थी।

यूरोप में 8 दिन में तीसरा हमला

म्यूनिख अटैक यूरोप में आठ दिन में हुआ तीसरा हमला है। पहला हमला फ्रांस के नीस में 15 जुलाई को हुआ था। बास्तील-डे का जश्न मना रहे लोगों को बड़े ट्रक में सवार हमलावर 60 से 70 किमी प्रति घंटा की रफ्तार से कुचलता चला गया। इसमें 84 लोगों की मौत हो गई। आईएसआईएस से जुड़े संगठन ने हमले की जिम्मेदारी ली। दूसरा हमला 18 जुलाई को जर्मनी में ही हुआ था। बर्लिन में अफगानिस्तान के 17 साल के लड़के ने ट्रेन में पैसेंजर्स पर कुल्हाड़ी और चाकू से हमला कर दिया था। 5 लोगों को घायल कर दिया था। छानबीन में पाया गया कि लड़का आतंकी संगठन आईएसआईएस से प्रभावित था।
44 साल पहले यहीं हुई थी 11 इजरायली खिलाड़ियों की हत्या

ओलंपिया शॉपिंग सेंटर म्यूनिख ओलिंपिक स्टेडियम के पास ही स्थित है। यहां 1972 के ओलिंपिक खेलों के दौरान फलस्तीनी आतंकी गुट ‘ब्लैक सेप्टेम्बर’ ने 11 इजरायली एथलीटों को बंधक बनाकर मार डाला था। इंडियन कॉन्स्युलेट ने जारी किए हेल्पलाइन नंबर हमले के बाद म्यूनिख में इंडियन कॉन्स्युलेट ने हेल्पलाइन नंबर जारी किए हैं।
म्यूनिख में भारतीय 0171-2885973, 01512-3595006, 0175-4000667 नंबर पर अपनी सेफ्टी की जानकारी दे सकते हैं। कॉन्स्युलेट के मुताबिक, हमले में अभी तक किसी भी इंडियन के घायल होने की खबर नहीं है।

ओबामा ने कहा जर्मनी को हमारा पूरा सपोर्ट
अमेरिकन प्रेसिडेंट बराक ओबामा ने व्हाइट हाउस में बयान जारी कर हमले पर दुख जताया है। ओबामा ने कहा, “हमें पूरी तरह से नहीं पता कि जर्मनी में क्या हो रहा है। लेकिन घायलों के प्रति हमारी पूरी सिम्पैथी है।” उन्होंने कहा कि अमेरिका जर्मनी की हर संभव मदद करेगा। सोशल मीडिया में फोटोज पोस्ट न करने की अपील म्यूनिख पुलिस ने लोगों से अपील की है कि वे ऑपरेशन की तस्वीरें सोशल मीडिया में पोस्ट न करें। पुलिस के मुताबिक, हमलावर इसका फायदा उठा सकते हैं।

अन्य ख़बरों से लगातार अपडेट रहने के लिए हमारे Facebook पेज को Join करे

लाइक करें:-
कमेंट करें :-
 

संबंधित ख़बरें

वायरल वीडियो

और पढ़ें >>

मनोरंजन

और पढ़ें >>
और पढ़ें >>