पिता ने भूख से परेशान होकर 1000 रुपए में बेचा अपना बेटा

Jun 24, 2016

नई दिल्लीः पिछड़े इलाकाें में रहने वाले अादिवासी लाेगाें की स्थिति काफ़ी दयनीय है। वे बड़ी मुश्किल से अपना गुजर बसर करते है। शायद यही वजह है कि भूख से परेशान एक पिता ने अपने ही बेटे काे महज 1000 रुपए में बेच दिया। ये मामला झारखंड के जिला मुख्यालय से 25 किमी दूर बारुनिया गांव के डुमरिया क्षेत्र का है।

जानकारी के मुताबिक, भोटा सबर नाम के एक आदिवासी ने अपने बेटे को महज़ 1000 रुपए में इसलिए बेच दिया क्योंकि उसके पास खाने और बच्चों को खिलाने के पैसे नहीं थे। इस पूरे मुद्दे पर गांव के मुखिया सहदेव मुर्मू का कहना है कि भोटा सबर के 6 बच्चे हैं। कुछ दिन पहले उसकी बीवी की मौत हो गई है, जिसके बाद कमाने वाले दो से एक हो गए हैं। सबसे दुख की बात तो ये है कि अभी हाल में ही भोटा को हाथ में गहरी चोट आई थी। इस वजह से वो काम नहीं कर पा रहा है। इस स्थिति में वो गंभीर आर्थिक संकट में था। उसे अपने बच्चों को खिलाने में दिक्कत हो रही थी।

ये भी पढ़ें :-  भगवा गुंडा मुस्लिम महिला को बकता रहा भद्दी-भद्दी गालियां, तमाशा देखती रही पुलिस

डुमरिया के थाना प्रभारी ने मीडिया को जानकारी दी है कि भोटा सबर ने थाने में आवेदन देकर अपने बच्चे को वापस दिलाने की मांग की है। इस पूरे मुद्दे पर बीडीओ मृत्युंजय कुमार का कहना है कि वो आर्थिक मदद पहुंचाने की कोशिश कर रहे थे, लेकिन इसी बीच भोटा सबर ने अपने बच्चे को बेच दिया। ये कहानी सिर्फ़ एक आदिवासी की नहीं है, बल्कि सभी आदिवासियों की है, जाे पैसे के अभाव में अपने बच्चों को बेच देते हैं। फिलहाल पुलिस बच्चे को बरामद करने की कोशिश कर रही है।

अन्य ख़बरों से लगातार अपडेट रहने के लिए हमारे Facebook पेज को Join करे

ये भी पढ़ें :-  आज़ादी के बाद से हर मदरसे में तिरंगा लहराया है, लेकिन RSS के कार्यालय पर इतिहास में कभी तिरंगा नहीं लहराया
लाइक करें:-
कमेंट करें :-
 

संबंधित ख़बरें

वायरल वीडियो

और पढ़ें >>

मनोरंजन

और पढ़ें >>
और पढ़ें >>