हकीम लुकमान ने दिया फ्री इलाज का ऑफर, पहले योगी आदित्य नाथ और साध्वी प्राची कराये नपुंसकता का इलाज

Jun 16, 2016

देश में जिस तरह आतंकी वारदात हो रही है और ब्राह्मण जिस तरह इस देश में आतंक फैलाते जा रहे है उससे लगता है देश से शान्ति बिलकुल गयाब हो गई है और अब निकट भविष्य इस देश में शान्ति आने वाली भी नहीं है

कभी गोमांस , कभी देशद्रोह ,कभी दादरी कभी अखलाक इस तरह के मामले आते ही रहे है और आगे भी आते रहेंगे
यह बात बिलकुल सच है की देश में मोदी सरकार बिलकुल फ्लॉप हो चुकी है गरीबी महंगाई , बेरोजगारी लगातार बढती जा रही है सो सरकार आम जनता का इन चीजो से ध्यान हटाने के लिए हिन्दू मुस्लिम दंगा या तनाव कराने की फिराक में रहते है

हाल ही में योगी आदित्य नाथ और साध्वी प्राची ने सभी हिन्दू परिवारों को कम से कम चार बच्चे नहीं तो दस बच्चे पैदा करने की सलाह दी है
खैर जनसंख्या पूरी दुनिया की बहुत बड़ी समस्या है और पूरी दुनिया में इसे निन्त्रित करने के प्रयास किये जा रहे है लेकिन फिर भी
इसमें एक बात काफी ख़ास रूप से उभर कर सामने आती है वह है की ये इतने बच्चे पैदा करने की सलाह देने वाले आद्तिय्नाथ और प्राची खुद क्यों नहीं बच्चे पैदा करते जिससे समाज और देश का भला हो यानी हिन्दू धर्म का भला हो ??
इस पर इनके आश्रम के कुछ ख़ास लोगो से पता चला है की इन दोनों में नुपुन्स्कता कुछ जयादा है
आदित्यनाथ को बचपन से ही लिंग सम्बन्धी बिमारी थी जिसकी वजह से इनके लिंग में तनाव नहीं आता था इसलिए ये घर छोड़ साधू भी बन गए , जन उदय को ये सब बाते आश्रम में इनके एक विशिष्ट व्यक्ति से पता चला
इसके अलावा साध्वी प्राची का भी यही हाल है इनको भी योनी सम्बन्धी बिमारी है जिसके कारण ये सेक्स नहीं कर सकती , ऐसा भी बताया गया है वैसे इन्होने काफी सेक्स किया है किस साधू या व्यक्ति के साथ किया है यह पता नहीं चल पाया

इनकी बिमारी के बारे में पता चलने पर दिल्ली बटला हाउस के हकीम लुकमान ने यह वादा किया है की अगर ये लोग आये तो वो निश्चित रूप से इनका इलाज कर सकते है और नुपुन्क्स्ता दूर करने की दवाई हकीम लुकमान की पूरी दुनिया में मशहूर है , लेकिन ये सबको नहीं बनाते , लेकिन फिर भी ये आदित्यनाथ के लिए और साध्वी के लिए बना सकते है

अन्य ख़बरों से लगातार अपडेट रहने के लिए हमारे Facebook पेज को Join करे

लाइक करें:-
कमेंट करें :-
 

संबंधित ख़बरें

वायरल वीडियो

और पढ़ें >>

मनोरंजन

और पढ़ें >>
और पढ़ें >>