राजा के किले में सात लड़कियां बनीं थीं हवस का शिकार, रात में आती है बचाओ-बचाओ की आवाज

Nov 15, 2016
राजा के किले में सात लड़कियां बनीं थीं हवस का शिकार, रात में आती है बचाओ-बचाओ की आवाज
यूपी के झांसी में ललितपुर में राजा मर्दन सिंह का किला भुतहा किले के रूप में कुख्यात हो चला है। किले पर सात लड़कियों की डरावनी तस्वीरें बनी हैं। कभी-कभी रात में ये लड़कियां बचाओ-बचाओ चिल्लाती हैं तो गांव वाले कांप जाते हैं। पिछले 150 सालों से यह हाल चल रहा है। कोई अनहोनी न हो, इस नाते से गांव वाले 150 सालों से पूजा करते आ रहे हैं। राजा मर्दन सिंह ने1857 की क्रांति में रानी लक्ष्मीबाई का साथ दिया था।
राजा मर्दन सिंह का किला, जिस पर बनी हुई है सात लड़कियों की तस्वीरें। उन तस्वीरों की 150 सालों से होती आ रही है पूजा। राजा मर्दन सिंह ने 1857 की क्रांति में रानी लक्ष्मीबाई का साथ दिया था। उन्हें एक योद्धा और क्रांतिवीर के रूप में याद किया जाता है। लेकिन 150 साल पहले उत्तर प्रदेश के झांसी के करीब ललितपुर के एक गांव में हुई दर्दनाक घटना ने उनके जीवन को बदल दिया, इस घटना ने राजा के तालबेहट किले को भूतिया बना दिया, जहां शाम होते ही लोग जाना बंद कर देते हैं।
राजा के बाप ने हवस का शिकार बनाया  तो सात लड़कियों ने कर ली थी आत्महत्या
राजा के किले के भुतहा बनने की डरावनी कहानी है। दरअसल
तालबेहट गांव में अक्षय तृतीया के दिन नेग मांगने की रस्म थी। इस रस्म अदायगी के लिए तालबेहट राज्य की सात लड़कियां राजा मर्दन सिंह के इस किले में नेग मांगने पहुंची। मर्दन सिंह के पिता प्रह्लाद किले में अकेले थे। लड़कियों की खूबसूरती देखकर उनकी नीयत खराब हो गई। उन्होंने इन सातों को हवस का शिकार बना लिया। लड़कियां राजशाही महल में बेबस थीं। घटना से आहत लड़कियों ने महल के बुर्ज से कूदकर जान दे दी थी।

इस घटना के बाद से यहां अक्षय तृतीया का त्योहार नहीं मनाया जाता है। स्थानीय लोगों की मानें तो उन सात लड़कियों की आवाजें आज भी तालबेहट किले में सुनाई देती है। यहां के लोग इस किले को अशुभ मानते हैं।
राजा मर्दन ने बाप के अपराध का प्रायश्चित करने के लिए बनाई किले पर लड़कियों की तस्वीर
7 लड़कियों की एक साथ मौत से तालबेहट गांव में हाहाकार मच गया था। जनता के आक्रोश को देखते हुए राजा मर्दन सिंह ने अपने पिता प्रह्लाद को यहां से वापस बुला लिया था। वह अपने पिता द्वारा की गई हरकत से दुखी थे। जनता का गुस्सा शांत करने और अपने पिता की करतूत का पश्चाताप करने के लिये राजा मर्दन सिंह ने लड़कियों को श्रद्धांजलि दी थी। उन्होंने किले के मेन गेट पर 7 लड़कियों के चित्र बनवाए थे, जो आज भी मौजूद हैं।
अन्य ख़बरों से लगातार अपडेट रहने के लिए हमारे Facebook पेज को Join करे
लाइक करें:-
कमेंट करें :-
 

संबंधित ख़बरें

वायरल वीडियो

और पढ़ें >>

मनोरंजन

और पढ़ें >>
और पढ़ें >>