सुप्रीम कोर्ट के पूर्व न्यायाधीश काटजू ने कहा-मोदी की नोटबंदी का फैसला पूरी तरह मूर्खता भरा

Nov 17, 2016
सुप्रीम कोर्ट के पूर्व न्यायाधीश काटजू ने कहा-मोदी की नोटबंदी का फैसला पूरी तरह मूर्खता भरा
देश में पीएम मोदी की ओर से नोटबंदी के फैसला को सुप्रीम कोर्ट के पू्र्व न्यायाधीश मार्कंडेय काटजू ने मूर्खता भरा फैसला करार दिया है।  वे पंजाब यूनिवर्सिटी में भारत और भारत में कानून के विषय पर छात्रों को संबोधित कर रहे थे।
आम आदमी परेशानियों से घिर गया
 उन्होंने कहा कि ये एक बिना सोच समझ के लिया गया फैसला है क्योंकि इससे काला धन रखने वालों पर ज्यादा असर नहीं पड़ा लेकिन आम आदमी कई परेशानियों से घिर गया है। उन्होंने कहा कि देश के किसानों, मजदूरों और आम आदमी के पास एक वक्त में थोड़े से ही 500 और 1000 के नोट होते हैं जिनसे वो पूरे अपनी जरूरतें पूरी करता है। लेकिन सरकार के इस फैसले से उन्हें परेशान होना पड़ रहा है लोग अपनी जरूरत का सामान नहीं खरीद पा रहे।
दुकानों पर पड़े फल और सब्जियां खराब हो रही हैं जिससे छोटे दुकानदारों का नुकसान हो रहा है। किसानों को नई फसल लगानी है लेकिन नोटबंदी होने से वो बीज नहीं खरीद पा रहा। कई जगह पर लोगों की मौत तक हो गई।

संविधान को ठेंगा दिखाने वाला फैसला
काटजू ने कहा कि उनका भारतीय संविधान की कुछ बातों पर बिल्कुल भी विश्वास नहीं है। जैसे भारतीय संविधान में नागरिकों को कुछ अधिकार दिये हैं जैसे अपनी बात कहने का अधिकार, समानता का अधिकार और स्वतंत्रता का अधिकार आदि। उन्होंने कहा उनकी नजर में संविधान के ये अधिकार बेकार है। क्योंकि भारत में स्वास्थ्य सेवाओं का बुरा हाल है, रेलेव की हालत खराब है, सफाई एक बड़ी समस्या है, करोड़ों लोगों को दो वक्त का खाना नसीब नहीं होता, बहुत से लोगों के पास रहने को घर नहीं है तो लोग संविधान के ये अधिकार लेकर क्या करेंगे।
काटजू ने कहा कि अगर लोगों को अधिकार देने हैं तो उन्हे रोजगार का अधिकार दें, भरपेट खाने का अधिकार दें, अच्छी स्वास्थ्य सेवाओं का अधिकार दें। इन सब से लोगों की जिंदगी में सुधार आएगा ना की उन अधिकारों से जो संविधान में लिख दिए गए हैं।
अन्य ख़बरों से लगातार अपडेट रहने के लिए हमारे Facebook पेज को Join करे
लाइक करें:-
कमेंट करें :-
 

संबंधित ख़बरें

वायरल वीडियो

और पढ़ें >>

मनोरंजन

और पढ़ें >>
और पढ़ें >>