किसानों को उचित मूल्य न मिलने पर सब्जी व दूध को सड़कों पर फेंकने को मजबूर

Jun 02, 2017
किसानों को उचित मूल्य न मिलने पर सब्जी व दूध को सड़कों पर फेंकने को मजबूर

मध्यप्रदेश में उपज का सही दाम न मिलने से परेशान किसान सड़कों पर उतरने को मजबूर हैं। कांग्रेस ने पांच बार कृषि कर्मण पुरस्कार पाने वाले राज्य में किसानों की इस स्थिति के लिए सरकार को जिम्मेदार ठहराते हुए मांग की है कि किसानों को उपज का सही दाम मिले। विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष अजय सिंह ने गुरुवार को एक बयान जारी कर मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान से सवाल किया है कि किसान पुत्र होने, पांच बार से कृषि कर्मण पुरस्कार पाने और दुनिया में सबसे अधिक कृषि विकास दर होने के बाद भी प्रदेश के किसानों को सड़कों पर क्यों आना पड़ रहा है।

नेता प्रतिपक्ष ने कहा कि प्रदेश में किसान परेशान है। हालात इतने खराब हैं कि किसानों को उचित मूल्य न मिलने पर सब्जी व दूध को सड़कों पर फेंकने को मजबूर होना पड़ा।

उन्होंने कहा कि चाहे कितने ही कृषि कर्मण अवार्ड मिल जाए, कृषि विकास दर चाहे कितनी हो, अगर किसानों को उनके परिश्रम की कीमत नहीं मिल रही है और उसे सड़कों पर उतरने को मजबूर होना पड़ रहा है, तो इसका मतलब है कि मुख्यमंत्री के सारे दावे फर्जी हैं।

ज्ञात हो कि गुरुवार से किसानों ने हड़ताल शुरू कर दी है। यह हड़ताल 10 जून तक चलेगी। गुरुवार को किसानों ने दूध और सब्जियां सड़कों पर फेंकी तथा उसे मंडियों तक नहीं जाने दिया।

लाइक करें:-
 

संबंधित ख़बरें

वायरल वीडियो

और पढ़ें >>

मनोरंजन

और पढ़ें >>
और पढ़ें >>