पहली बार संभोग के दौरान सभी स्त्रियों को रक्त आना इसलिए नहीं है ज़रूरी, जानिए

Jul 20, 2017
पहली बार संभोग के दौरान सभी स्त्रियों को रक्त आना इसलिए नहीं है ज़रूरी, जानिए

आज के इस समय में भी ज्यादातर लोगों का मन्ना है कि, लड़कियों के साथ पहली बार शारीरिक संबंध बनाने पर उनको ब्लीडिंग होती है। इस बात को लेकर देखा गया है कि, इससे रिश्तों पर भी असर पड़ता है। कुछ लोगों का मन्ना है कि, पहली बार अगर कोई लड़की शारीरिक संबंध बनाएगी, तो उसके योनि के केंद्र से रक्त आना बेहद ज़रूरी है। अगर ऐसा नहीं हुआ, तो वह लोग मानते है कि, लड़की ने पहले भी कभी संबंध बनाए है। लेकिन आज हम आपको एक बेहद खास बात बताने जा रहें हैं, ये ज़रूरी नहीं है कि हर एक लड़की को  पहली बार शारीरिक संबंध बनाने पर उसकी योनि से रक्त आये।

ये भी पढ़ें :-  मोदी सरकार की नीतियों से बर्बाद हुए बैंक, इन दिनों होंगे सभी बैंक एक साथ बंद

जानिए
यदि कोई लड़की स्पोर्ट खिलाड़ी है, या अन्य शारीरिक श्रम करती है तो ऐसी स्थिति में योनि की झिल्ली (हाइमेन) खुद ही नष्ट हो जाती है। ऐसी स्थिति में पहली बार संभोग के दौरान लड़कियों को नहीं आता।

आपको बता दें कि लड़कियों दवारा शीलभंग साइकिल चलाने, व्यायाम, आदि कई अन्य कारणों से भी योनि की झिल्ली फट सकती है। और कुछ महिलाओं में यह उनके जन्म से ही नहीं होती है। महिलाओं के हस्तमैथुन के कारण भी शीलभंग हो सकता है। ब्लीडिंग हो या ना हो, जब आप अपने पार्टनर के पास है तो आपको उसमें विश्वास जताना और करना होगा। बेहतर होगा आप इन मामलों न पड़कर अपनी लाइफ में प्यार और ख़ुशी तलाश करें..

ये भी पढ़ें :-  उनकी नस्ल 'देशभक्ति के सर्टिफ़िकेट' बांट रही है, जिन्होंने अंग्रेजों की गुलामी कर उनके तलवे चाटे हैं!
लाइक करें:-
 

संबंधित ख़बरें

वायरल वीडियो

और पढ़ें >>

मनोरंजन

और पढ़ें >>
और पढ़ें >>