Fake Shake: आरक्षण लेने की बजाय देने के लिए सड़कों पर उतर आए लोग

Apr 02, 2016

कल शाम शहर के मुख्य चौराहों पर लोगों की भीड़ देखने को मिली, लोग झुंड बनाकर हाथों में ‘आरक्षण लो-आरक्षण लो’ के पोस्टर लेकर नारेबाजी कर रहे थे, जब हमारे संवाददाता ने इसकी तह तक जाने की कोशिश की तो पूरा मामला यूं सामने आया… दरअसल शहर में इन दिनों ठंड कुछ ज्यादा ही बढ़ गई है और जिस शहर में लोग इस बात पर गरम हो जाते हैं कि पोहे में सेव और प्याज के साथ एक्स्ट्रा जिरावन क्यों नही डाला, वहां तापमान 3 से 4 डिग्री तक पहुंच गया है। यह चिंता का विषय है। शहर के कुछ बुजुर्ग बुद्धिजीवियों ने अपने व्हाट्सएप ग्रुप में ‘भूतपूर्व नौजवान’ पर विचार-विमर्श करके तय किया कि जब भंडारे की लाइन से लेकर सिटी बस की सीट तक और सरकार के वॉयलेट से लेकर नगर निगम के टॉयलेट तक आरक्षण है तो फिर क्यों ना मौसम को भी आरक्षण के दायरे में लाया जाए।
उनके हिसाब से हर मौसम को आरक्षण के दायरे में लाना चाहिए और लोगों को ठंड भी आरक्षण के तय मानकों के हिसाब से ही लगनी चाहिए।
आयोग की रिपोर्ट के अनुसार 50% ठंड उन महिलाओं के लिए आरक्षित की जाएगी…जो 3 डिग्री तापमान में भी स्लीवलेस और बैकलेस पहनकर शादियों में जाती हैं और देखने वालों में गर्मी बढ़ाती हैं।
बाकी 50% को शासन के आरक्षण नियम के तहत ही विभिन्न वर्गों में बांटा जाएगा। भूतपूर्व नौजवान आयोग ने आवश्यक कार्रवाई के लिए शासन को 3 दिन का समय दिया था। लेकिन कोई जवाब ना मिलने पर वो सड़कों पर उतर आए। आयोग के प्रवक्ता ने बताया कि उन्होंने रामू दर्जी को ‘हम देंगे पूर्ण आरक्षण’ छपी हुई 3000 टोपियों का ऑर्डर भी दे दिया है। शहर के बड़े ग्राउंड पर धरने की तैयारी लगातार जारी है।
कुछ लोग, जिनके खुद के ब्रेक और गियर ढंग से काम नहीं कर रहे थे उन्होंने मांगें न मानी जाने पर ट्रेन रोकने और पटरी उखाड़ने की भी धमकी दी है। पुलिस और सरकार इसे लेकर सतर्क हो गई है।

लाइक करें:-
कमेंट करें :-
 

संबंधित ख़बरें

वायरल वीडियो

और पढ़ें >>

मनोरंजन

और पढ़ें >>
और पढ़ें >>