मिसाल: हिंदू पड़ोसी के अंतिम संस्कार के लिए आगे आए मुसलमान

Aug 10, 2017
मिसाल: हिंदू पड़ोसी के अंतिम संस्कार के लिए आगे आए मुसलमान

इन दिनों सोशल मीडिया पर भबानीपुर गांव के मुस्लिम निवासियों की खूब तारीफ की जा रही है। जहाँ सांप्रदायिक सैहार्द की मिसाल पेश करते हुए यहाँ के मुसलमानों ने एक हिन्दू पड़ोसी के अंतिम संस्कार में हाथ बटाया। और उसके अंतिम संस्कार के इंतेज़ाम में मदद की।

बता दें कि ये मामला मालदा के अंग्रेजी बाजार के पास भबानीपुर गांव का है। जहाँ के मुस्लिम निवासियों ने एक हिंदू महिला के अंतिम संस्कार के इंतेज़ाम में मदद की । बताया जा रहा है कि महिला की दो बेटियां हैं लेकिन वो दोनों अपनी मां की अंतिम संस्कार के लिए इंतेज़ाम नहीं कर सकीं, इसलिए गांव के मुस्लिम पड़ोसी उनकी मदद करने के लिए आगे आए।

ये भी पढ़ें :-  हैवान तांत्रिक इसलिए बच्ची के प्राइवेट पार्ट में सुइयां चुभोता था, अब हो गई बच्ची की मौत

रिपोर्ट्स के अनुसार एक 63 वर्षीय महिला जिसका नाम निर्मला रबीदास बताया जा रहा है। वो अपनी दो बेटियों अर्चना और तुनी के साथ अकेली रहती थी। क्योंकि उसके पति का 13 साल पहले ही निधन हो गया था, तो दूसरी तरफ बड़ी बेटी रेखा शादी के बाद पखुरिया गांव में चली गईं। कुपोषण सहित वह लंबे समय तक बुढ़ापे के कारण कई बीमारियों से पीड़ित रही। लेकिन, शुक्रवार की रात उसे दिल का दौरा पड़ा, और उसको हॉस्पिटल ले जाने के दौरान ही उसकी मृत्यु हो गई।

अब उनकी बेटियों के लिए ये सवाल खड़ा हुआ कि इनकी माँ का अंतिम संस्कार कैसे होगा जबकि उनके पास कुछ भी नहीं है। लेकिन उनके पड़ोसी एनामूल मोमिन, शरीफ मोमिन, कललु एसके, अजमल एसके, सिराज अली और अन्य लोगों ने उनके अंतिम संस्कार के लिए स्थानीय लोगों से पैसा इकट्ठा करना शुरू कर दिया। टाइम्स ऑफ इंडिया की न्यूज़ के मुताबिक वे कुछ घंटों के भीतर 10,000 रुपये इकट्ठा करने में कामयाब हो गए। और फिर उन लोगों ने मिलकर उनका अंतिम संस्कार किया।

ये भी पढ़ें :-  जब में सड़कों पर नमाज पड़ने से नहीं रोक सकता, तो थानों में जन्माष्टमी क्यों रोकूं?
लाइक करें:-
कमेंट करें :-
 

संबंधित ख़बरें

वायरल वीडियो

और पढ़ें >>

मनोरंजन

और पढ़ें >>
और पढ़ें >>