चुनावी हार का ठीकरा सर पर फूटने से पहले शिवपाल यादव को बनाया प्रदेश अध्यक्ष- मायावती

Sep 19, 2016
चुनावी हार का ठीकरा सर पर फूटने से पहले शिवपाल यादव को बनाया प्रदेश अध्यक्ष- मायावती

बसपा की राष्ट्रीय मायावती ने एक बयान जारी करते हुए कहा कि उत्तर प्रदेश में होने वाले विधानसभा आम चुनाव में सपा की होने वाली अवश्यंभावी करारी हार का ठीकरा अपने पुत्र के सर पर फूटने से बचाने की तैयारी कर रही है। इस क्रम में एक सोची-समझी रणनीति के तहत सपा मुखिया मुलायम सिंह यादव ने अपने भाई शिवभाई सिंह यादव को आमचुनाव से ठीक पहले उत्तर प्रदेश सपा अध्यक्ष बना दिया। ताकि कानून-व्यवस्था के मामले में उत्तर प्रदेश सरकार के बुरी तरह से विफल साबित होने के फलस्वरुप अपने पुत्र की इमेज को और भी ज्यादा खराब होने से थोड़ा बचाया जा सके। सत्ताधारी समाजवादी पार्टी व परिवार में वर्चस्व को लेकर संघर्ष व गृहयुद्ध की ड्रामेबाजी में सपा प्रमुक मुलायम सिंह यादव के हावी पुत्रमोह पर से प्रदेश की जनता का ध्यान बांटा जा सके।

ये भी पढ़ें :-  आईपीएल : पुणे को हराकर मुम्बई बना तीसरी बार चैम्पियन

बसपा सुप्रीमो ने कहा, प्रदेश की सत्ताधारी पार्टी व परिवार में अपने पुत्र व प्रदेश के वर्तमान मुख्यमंत्री को पूरी तरह स्थापित करने के लिए पिछले दिनों सपा मुखिया मुलायम सिंह यादव द्वारा एक सोची-समझी रणनीति के तहत की गयी किस्म-किस्म की नाटकबाजी का लगभग वैसे ही पटाक्षेप जनता के सामने हो गया। लगता है जैसा कि उसकी स्क्रिप्ट तैयार की गई थी। भले ही इसकी कीमत उनके भाई शिवपाल सिंह यादव को प्रदेश व आमजनता को अपने अमन-चैन व जान-माल की कीमत से चुकानी पड़ी हो। जैसा कि बिजनौर में कल सांप्रदायिक दंगे के दौरान हुआ और तीन लोगों की जान चली गयी और प्रदेश के लोग सहम गए।

ये भी पढ़ें :-  असम : आतंकवाद को आर्थिक मदद देने वाले 3 दोषियों को उम्रकैद

मायावती ने आगे कहा, वैसे तो सपा परिवार व पार्टी में घमासान की घटनायें लगातार घटती रहती हैं और इसका सीधा लाभ पुत्रमोह में वर्तमान सीएम को हर बार देने का प्रयास किया जाता है, परंतु इस बार की सपा प्रमुख मुलायम सिंह यादव की पुत्रमोह की रणनीति यहां होने वाले विधानसभा आमचुनाव से पहले उसे पार्टी में अपरहैंड दिलाने और बाद में संभावित हार की जिम्मेदारी से बचाने के लिए कवच तैयार करना था जिसके लिए सारी नाटकबाजी की गयी। यही नहीं प्रदेश की शांति-व्यवस्था व थोड़ा बहुत चलने वाला विकास का काम प्रभावित हुआ एवं साथ ही यहां प्रदेश में अराजकता व जंगलराज को और बढ़ावा मिला।

ये भी पढ़ें :-  उत्तराखंड : बस पर शिलाखंड गिरने से 5 मरे

अन्य ख़बरों से लगातार अपडेट रहने के लिए हमारे Facebook पेज को Join करे

लाइक करें:-
 

संबंधित ख़बरें

वायरल वीडियो

और पढ़ें >>

मनोरंजन

और पढ़ें >>
और पढ़ें >>