प्रतिदिन सिर्फ 1 लौंग खाएं, और पाएं 10 चमत्कारिक फायदे

Aug 17, 2017
प्रतिदिन सिर्फ 1 लौंग खाएं, और पाएं 10 चमत्कारिक फायदे

कुदरत ने इंसानो को जड़ी बूटियों की ऐसी अनमोल संपदा दी है, जिसके फायदों के बारे में वह सोच भी नहीं सकता। लौंग भी कुरत की दी हुई उन्हीं औषधियों में से एक है। जिसमे बहुत सारे दुर्लभ और बेशकीमती गुण छुपे हुए हैं। अगर आप सिर्फ रोज़ाना इसका सेवन अलग अलग तरीके से करें तो आपको कई तरह की बीमारियों से छुटकारा मिल जाएगा। आज हम आपको लौंग के फायदों के बारे में बताने जा रहें हैं। लेकिन पहले आपके लिए ये जानना बेहद ज़रूरी है कि किस तरह आप असली लौंग की पहचान करें, अक्सर देखा जाता है कि कई दुकानदार लौंग का तेल निकाल कर बेच देते है ऐसे लौंग की पहचान करना बहुत आसान है अगर लौंग में झुर्रिया पड़ी हो तो समझे कि यह तेल निकाली हुई लौंग है। और आप उसको कभी न खरीदें..

लौंग को बकरी के दूध में घीसकर, नेत्रों में काजल की तरह लगाने से रतोंधी रोग ठीक हो जाता है।
बस व रेल के लम्बे सफर में जी मचलने व उलटी होने की स्थिति में लौंग मुंह में रखकर चूसने से बहुत फायदा होता है।
लौंग को जल में उबालकर, छानकर थोड़ा-थोड़ा पानी पिलाने से हैजे की विकृति में उलटी का प्रकोप शांत होता है। मूत्र अधिक निष्कासित होता है।
लौंग 10 ग्राम, सौंठ 10 ग्राम, कालीमिर्च 10 ग्राम, पीपल 10 ग्राम, अजवायन 10 ग्राम को मिलाकर अच्छी तरह पीसकर इसमें एक ग्राम सेंधानमक मिलाकर रख लें। इस मिश्रण को एक स्टील के 5 5.. बर्तन में रखकर ऊपर से नींबू का रस डाल दें। जब यह सख्त हो तब इसे छाया में सुखाकर 5-5 ग्राम की मात्रा में भोजन के बाद सुबह और शाम पानी के साथ लेनें से पाचन क्रिया ठीक होती है।
लौंग को मुंह में रख कर चूसने से मुंह और श्वास की बदबू दूर हो जाती है।
लौंग के तेल की एक दो बुंदे बताशे पर डालकर खाने से हैजे की विकृति दूर हो जाती है।
लौंग की 2 कली को घिसकर शहद के साथ प्रयोग कराने से खसरा रोग ठीक होता है।
लौंग का तेल व तिल का तेल दोनों को एक साथ मिलाकर नाभि पर लगाने से बच्चे को नाभि के कारण हो रहे दर्द में आराम मिलता है।
10 5 ग्राम नींबू के रस में 3 लौंग को पीसकर मिला लें। इसे दांतों पर मलें और खोखल में लगायें। इससे दांतों का दर्द नष्ट होता है।
मुंह में लगातार लौंग रखकर चूसना चाहिए। इससे दमा का रोग दूर हो जाता है।

लाइक करें:-
 

संबंधित ख़बरें

वायरल वीडियो

और पढ़ें >>

मनोरंजन

और पढ़ें >>
और पढ़ें >>