सूखे की मार , जान हथेली पर लेकर पानी की तलाश करते ये मासूम

Apr 11, 2016

पिछले साल एक फिल्म आई थी ‘मांझी: द माउंटेनमैन’। जिसमे मुश्किलों का पहाड़ काटने में लगे दशरथ मांझी का गाँव भयंकर सूखे की चपेट में आ जाता है। खाने को खाना नहीं, न पीने को पानी, ज़िन्दगी तंगहाल और पलायन करने को मजबूर हो जाता है पूरा गाँव। फिल्म आगे बढ़ती है। गाँव के सूख चुके कुएं में मांझी पानी की बूंदों की तलाश मे उतरतें हैं तो मार्मिकता की सीमाओं को तोड़ते हुए यह दृश्य हमारी सुन्न पड़ चुकी संवेदनाओं में हलचल पैदा कर देती है। आजकल कुछ इसी तरह के दृश्य फिर से पर्दे पर दिखने लगें हैं। फर्क सिर्फ इतना है कि वह बड़े काल्पनिक पर्दे पर दिख रहें थे और इस बार यह हकीक़त के पर्दे पर न्यूज के रूप में। उसमे दशरत मांझी की भूमिका में अभिनेता नवाज़ुद्दीन अपने अभिनए के ज़रिए मानवीय संवेदनाओं को कुरेदने का भरसक प्रयास कर रहें थे लेकिन इसमें कुछ बच्चे प्रयास के ज़रिए पानी की तलाश कर रहें हैं। लेकिन यह प्रयास जोखिम भरा है। ज़िन्दगी बचाने के लिए ज़िन्दगी को दांव पर लगा रहें हैं यह बच्चे।

यह तस्वीर है मध्य-प्रदेश के दिंडोरी गाँव की जहाँ छोटे-छोटे बच्चें एक सूखे कुएं पानी की उम्मीद लिए उतर रहें हैं अपनी जान जोखिम में डालकर। पानी के लिए ज़द्दोजहद की कवायद वाकई रोवें खड़े करने वाली है। इस सुख चुके मंज़र ने सरकार की भूमिका को कटघरे में लाकर खड़ा कर दिया है। हाल ही में एक फैसले की सुनवाई करते हुए कोर्ट ने केंद्र सरकार से कहा है कि आप सूखे के ऐसे भयंकर हालात में अपनी आखें नहीं बंद सकते।

आपको बता दें कि पिछले दो सालों से कम बारिश के चलते भारत के कई राज्य भयंकर सूखे के चपेट में चुके है। कई राज्यों में हालात इतने बदतर हो गए हैं कि लोग पीने के पानी को तरस गए हैं और अब पलायन करने पर मजबूर हैं। मध्य-प्रदेश भी इससे अछूता नहीं है। इस समय मध्य-प्रदेश के छियालीस जिले सूखे का दंश झेल रहें हैं।

अन्य ख़बरों से लगातार अपडेट रहने के लिए हमारे Facebook पेज को Join करे

लाइक करें:-
कमेंट करें :-
 

संबंधित ख़बरें

वायरल वीडियो

और पढ़ें >>

मनोरंजन

और पढ़ें >>
और पढ़ें >>