डीएम-एसपी की सूझबूझ से अलीगढ़ में बड़ा दंगा होते-होते बचा

Oct 31, 2016
डीएम-एसपी की सूझबूझ से अलीगढ़ में बड़ा दंगा होते-होते बचा
यूपी के अतिसंवेदनसील अलीगढ़ को दीवाली के मौके पर सांप्रदायिक तत्वों की ओर से सुलगाने की तैयारी थी। मगर, आला अफसरों की सूझबूझ से बड़ा दंगा होते-होते बच गया। संप्रदाय विशेष के दो लोगों की मौत से मामला बहुत तनावपूर्ण हो गया। मगर रात भर डीएम राजमणि यादव और एसएसपी राजेश ने तनावग्रस्त इलाके में कैंप कर बड़े दंगे की आग में जिले को जलने से बचा लिया।
 कैसे भड़की चिंगारी
अलीगढ़ के कौड़ियागंज कस्बे में बहुसंख्यक समुदाय की दुकान के सामने अल्पसंख्यक समुदाय के युवक ने बाइक खड़ी कर दी। जिस पर दुकानदार ने ग्राहकों की परेशानी का हवाला देकर बाइक हटाने को कहा। इस पर कहासुनी हो गई। कहा जाता है कि इस दौरा बाइक सवार युवक ने तमंचा निकालकर फायर कर दिया। जिससे दुकानदार को गोली लग गई। इस पर आसपास के अन्य दुकानदार जुट गए। उधर से भी लोग जुट गए। इस पर फायर करने वाले युवक और  उसका पिता गंभीर रूप से घायल हो गए। युवक की थोड़ी देर में मौत हो गई वहीं पिता बुन्दू को गंभीर हालत में अलीगढ़ मेडिकल कॉलेज में भर्ती कराया गया। जहां बुंदू ने भी देर शाम दम तोड़ दिया।
और होने लगा पथराव
मौत के बाद स्थिति बिगड़ गई और दोनों तरफ से पथराव होने लगा। यह देख स्थानीय पुलिस के जवानों की भी हालत खराब हो गई। वे चौकी से बाहर कस्बे में जाने की हिम्मत ही नहीं जुटा पा रहे थे।
सूचना मिलते ही प्रशासनिक मशीनरी में हड़कंप मच गया। डीएम और एसएसपी कई थानों की पुलिस फोर्स के साथ  पीएसी को लेकर कौड़ियागंज पहुंच गए। चप्पे-चप्पे पर जवानों को तैनात किया गया। मामला भड़काने की फिराक में लगी भीड़ पर लाठीचार्ज कर भीड़ लोगों को तितर-बितर कर दिया गया। पूरी रात घटनास्थल पर अफसर डेरा डाले रहे। हालांकि पूरे जिले में अब भी तनाव है, मगर स्थिति नियंत्रण में है।
अन्य ख़बरों से लगातार अपडेट रहने के लिए हमारे Facebook पेज को Join करे
लाइक करें:-
कमेंट करें :-
 

संबंधित ख़बरें

वायरल वीडियो

और पढ़ें >>

मनोरंजन

और पढ़ें >>
और पढ़ें >>