पूर्व सपा जिलाध्यक्ष के आरोपी बेटे की पिटाई मामले में मुख्यमंत्री ने किया एसएसपी अनंतदेव को सस्पेंड

Jun 15, 2016

गोरखपुर: हत्‍या के आरोप में गिरफ्तार पूर्व जिलाध्यक्ष और सजायाफ्ता सपा नेता गोपाल यादव के पुत्र गौरव यादव की कैंट थाने में की गई कथित पिटाई के आरोप में बुधवार को मुख्य मंत्री अखिलेश यादव ने गोरखपुर के एसएसपी अनंतदेव को ससपेंड कर दिया है। इससे पहले इसी मामले में एसएसपी ने कैंट थाने की 3 चौकियों के दारोगाओं और एक सिपाही को तत्काल प्रभाव से निलंबित कर दिया था।

मंगलवार रात हंगामे के बाद इस मामले में मोहद्दीपुर चौकी इंचार्ज नरेंद्र प्रताप राय, बेतियाहाता चौकी इंचार्ज दिनेश तिवारी, जटेपुर चौकी इंचार्ज मृत्युंजय सिंह और सिपाही योगेश सिंह को निलंबित किया गया था। चारों पुलिसकर्मियों पर पूर्व जिलाध्यक्ष के पुत्र की पिटाई करने का आरोप है।

एसएसपी ने सभी आरोपी पुलिसकर्मियों के विरूद्ध मारपीट किए जाने के मामले में जांच कर मुकदमा भी दर्ज किए जाने का आदेश दिया था। विकास की पिटाई को लेकर पुलिसकर्मियों के विरूद्ध वकीलों और सपाई आक्रोशित हैं।

पुलिस की पिटाई का शिकार और हत्‍या के प्रयास का आरोपी विकास यादव पेशे से वकील भी है। पिटाई की सूचना मिलते ही सपा नेताओं और वकीलों ने मंगलवार की रात कैंट थाने में हंगामा खड़ा कर दिया। वे कथित रूप से पिटाई करने वाले 3 चौकी इंचार्ज और एक सिपाही की निलंबन की मांग करने लगे। आरोपी पुलिसकर्मियों के खिलाफ कार्रवाई होने के बाद हंगामा शांत हुआ।

(जिला अस्पताल के बाहर खड़े सपाई)

कैंट इलाके के इंदिरानगर और गोपालापुर में भूमि विवाद को लेकर चली गोली में दो लोगों के घायल होने के मामले में पूर्व जिलाध्यक्ष गोपाल यादव के पुत्र गौरव यादव उर्फ अतुल को गिरफ्तार किया गया है। गौरव खुद भी सपा की जिला कार्यकारिणी में पदाधिकारी हैं और दीवानी कचहरी में वकील भी हैं।

कैंट इलाके के गोपलापुर हाइवे के किनारे पुश्‍तैनी जमीन के बंटवारे को लेकर सपा के पूर्व जिलाध्यक्ष के परिवार का अपनी पट्टीदारी के लोगों से काफी पहले से विवाद चल रहा है। सोमवार की रात एक पक्ष विवादित भूमि पर मिट्टी गिरवा रहा था। दूसरे पक्ष के इसका विरोध करने पर विवाद शुरू हो गया। इस दौरान चली गोली में पूर्व जिलाध्यक्ष के भाई चंद्रजीत यादव और दूसरे पक्ष के रामनयन घायल हो गए। चंद्रजीत को पेट में गोली लगी थी, जबकि रामनयन को कंधे में गोली लगी थी।

घटना की जानकारी होने पर पहुंची पुलिस ने पूर्व जिलाध्यक्ष के पुत्र सहित दोनों पक्षों से दो-दो लोगों को गिरफ्तार कर लिया। आरोप था कि रात में थाने लाने के बाद पूर्व जिलाध्यक्ष के पुत्र गौरव यादव की पुलिस वालों ने बुरी तरह से पिटाई कर दी। मंगलवार को इसकी जानकारी होने पर सपा जिलाध्यक्ष डॉ. मोहिसिन खान और महानगर अध्यक्ष कृष्ण कुमार तिवारी बड़ी संख्या में कार्यकर्ताओं के साथ थाने पहुंचकर हंगामा शुरू कर दिए।

वकील की पिटाई की सूचना मिलते ही बड़ी संख्‍या में वकील थाने पहुंच गए और वो भी हंगामा करने लगे। कैंट थाने पहुंचे एसपी नगर हेमराज मीणा और एसपी ग्रामीण ब्रजेश सिंह ने एसएसपी से बात करने के बाद कथित रूप से दोषी पुलिसकर्मियों ने निलंबित करने का आदेश दिया।

हत्‍या के प्रयास, बलवा के मामले में दोनों पक्षों ने एक-दूसरे के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया है। रामनयन यादव के पक्ष से शोभा यादव की तहरीर पर इंद्रजीत यादव, चंद्रजीत यादव, गौरव, राजेश यादव और तीन अज्ञात को अभियुक्त बनाया गया है। दूसरे पक्ष से इंद्रजीत यादव की तहरीर पर शोभा यादव और उनके भाई महेंद्र, रामनयन, रघुराई के अलाव उनके सहयोगी मुन्नू उर्फ अभिमन्यु और नत्थन को अभियुक्त बनाया गया है।

अन्य ख़बरों से लगातार अपडेट रहने के लिए हमारे Facebook पेज को Join करे

लाइक करें:-
कमेंट करें :-
 

संबंधित ख़बरें

Jan 19, 2018

वायरल वीडियो

और पढ़ें >>

मनोरंजन

और पढ़ें >>
और पढ़ें >>