दिल्ली में गृह मंत्री राजनाथ से मिली मुख्यमंत्री महबूबा

Apr 13, 2016

मुख्यमंत्री पद संभालने के बाद महबूबा मुफ्ती जम्मू-कश्मीर में विकास को नई गति देने और सुरक्षा इंतजामों को पुख्ता करने में जुट गई हैं.

मुख्यमंत्री बनने के बाद पहली बार दिल्ली पहुंची महबूबा मुफ्ती ने केंद्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह और राष्ट्रीय राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी से मुलाकात कर जम्मू-कश्मीर में शासन-प्रशासन की गति को रफ्तार देने की कोशिश की.

जम्मू-कश्मीर की मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती ने राष्ट्रीय प्रौद्योगिकी संस्थान (NIT) को कश्मीर घाटी से बाहर ले जाने की किसी भी संभावना को खारिज कर दिया. बीते 04 अप्रैल को जम्मू-कश्मीर की पहली मुख्यमंत्री के तौर पर शपथ लेने वाली 56 वर्षीय महबूबा ने यहां केंद्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह से मुलाकात की और इसे ‘शिष्टाचार भेंट’ करार दिया.

राज्य में अपने नेतृत्व में पीडीपी-भाजपा की सरकार बनने के बाद महबूबा पहली बार दिल्ली पहुंची हैं. सिंह के साथ 45 मिनट तक चली बैठक के बाद बाहर आने पर महबूबा ने कहा, ‘मुख्यमंत्री बनने के बाद गृह मंत्री से यह मेरी शिष्टाचार भेंट थी.’ माना जा रहा है कि मुलाकात के दौरान दोनों ने एनआईटी में छात्रों और पुलिस के बीच झड़प की घटना के बाद पैदा हुए हालात और आतंकवाद के कारण पैदा हुई कानून-व्यवस्था की स्थिति पर चर्चा की.

महबूबा मुफ़्ती ने यह साफ़ कर दिया की NIT श्रीनगर को कहीं शिफ़्ट नहीं किया जाएगा. महबूबा ने बताया की छात्र चाहते हैं कि NIT शिफ़्ट हो लेकिन ऐसा मुमकिन नहीं. NIT श्रीनगर में झगड़ा कॉलेज के छात्रों का अंदरूनी झगड़ा है, इसे स्थानीय और बाहरी के झगड़े की तरह नहीं देखा जाना चाहिए.

महबूबा के इस बात पर शोर दिया की राज्य में हर छात्र महफूज़ है. कुछ छात्रों की समस्याएं थीं, उन्हें केंद्र और राज्य मिलकर देख रहा है. उधर NIT कैम्पस से क़रीब 1200 छात्र अपने घर वापिस चले गए हैं, बीते दिनों हुई घटना के बाद इन सबने अपनी परीक्षाओं का बहिष्कार किया है.

गौरतलब है की स्थानीय छात्र भी अपनी परीक्षा मंगलवार को नहीं दे सके क्योंकि इलाक़े में हड़ताल थी. बुधवार को भी हंदवारा में मारे गए नौजवानों के ख़िलाफ़ हड़ताल है इसीलिए छात्र परीक्षा फिर नहीं दे पाएंगे.

लाइक करें:-
कमेंट करें :-
 

संबंधित ख़बरें

वायरल वीडियो

और पढ़ें >>

मनोरंजन

और पढ़ें >>
और पढ़ें >>