फिल्मों में डांसर बनाने का लालच देकर, जबर्दस्ती देह व्यापार कराया जा रहा था

Jul 23, 2016

मुंबई: बॉलीवुड की फिल्मी चकाचौंध का हिस्सा बनने को लालायित हजारों युवक-युवती प्रतिवर्ष अनैतिक धंधों की दल-दल में फंस जाते हैं। ऐसी ही एक कहानी मध्यप्रदेश के विभारी जिला की नखुनि गांव की रहनेवाली नाबालिग लड़की मीना (नाम बदला हुआ) की है। फिल्म में डांसर और मॉडल बनाने का लालच देकर जिस्म के सौदागर उसे मध्यप्रदेश से आगरा और फिर मीरा रोड तक बार-बार बेचते रहे। गुरुवार को इन जिस्म के सौदागरों के चंगुल से किसी तरह छूटकर मीना एक पत्रकार की मदद से पुलिस तक पहुंचने में कामयाब हुई।
मीना ने मीरा रोड पुलिस को दिए अपने बयान में बताया है कि वह मध्यप्रदेश के शहडोल तहसील, विभारी जिला की नखुनि गांव की रहनेवाली है और वहीं के स्कूल में पढ़ती थी। उसकी मुलाकात एक युवक से हुई। उस युवक ने उसकी सुंदरता की प्रशंसा करते हुए फिल्मों में डांसर और मॉडल बनाने का लालच दिया। मीना उसके झांसे में आ गई और उसके साथ फिल्मी चकाचौंध का हिस्सा बनने निकल पड़ी। उस युवक ने मीना को आगरा में सोनी सिंह नामक महिला के हाथों बेच दिया।
जहां एक महीने तक मीना से जबर्दस्ती देह व्यापार कराया गया। एक महीने बाद सोनी सिंह ने मीना को अपने भाई संजय सिंह के हाथों बेच दिया। संजय सिंह मीना को लेकर मीरा रोड के शांति पार्वâ में सरोज देवी के घर ले आया। यहां पर उसे तीन महीने से जबर्दस्ती देह व्यापार कराया जा रहा था और उसे कोलकाता में किसी के हाथों बेचने की तैयारी की जा रही थी, जिसकी भनक मीना को लग गई थी। गुरुवार रात को सरोज देवी और संजय सिंह कहीं बाहर गए हुए थे।
मौका पाकर मीना उनके घर से निकली और रोड पर बदहवास हालत में भाग रही थी, तभी उसे एक रिक्शाचालक ने रोककर उसके इस तरह भागने का कारण पूछा तो मीना ने अपनी आप-बीती सुनाई। इसके बाद रिक्शाचालक मीना को लेकर पत्रकार संदीप झा के पास पहुंचा, दोनों मीना को मीरा रोड पुलिस थाने ले गए। मीरा रोड पुलिस ने मीना की निशानदेही पर सरोज देवी (65) और संजय सिंह (42) को हिरासत में ले लिया है। मामले की जांच सहायक पुलिस निरीक्षक कुचरेकर कर रहे हैं।

अन्य ख़बरों से लगातार अपडेट रहने के लिए हमारे Facebook पेज को Join करे

लाइक करें:-
कमेंट करें :-
 

संबंधित ख़बरें

वायरल वीडियो

और पढ़ें >>

मनोरंजन

और पढ़ें >>
और पढ़ें >>