दलित नेता मानकर ने दिया विवादित बयान, भगवद गीता को बताया घटिया, कहा – फाड़कर कचरे के डब्बे में फेंक देना चाहिए

May 26, 2017
दलित नेता मानकर ने दिया विवादित बयान, भगवद गीता को बताया घटिया, कहा – फाड़कर कचरे के डब्बे में फेंक देना चाहिए

नागपुर के जिलाधिकारी व आंबेडकराइट पांर्टी ऑफ इंडिया के राष्ट्रीय अध्यक्ष विजय मानकर ने धार्मिक पुस्तक गीता को लेकर विवादित बयान दिया है। उन्होंने गीता को घटिया करार देते हुए कहा कि उसे कचरे के डब्बे में फेंक देना चाहिए।

वीडियो में विजय मानकर ने कहा कि जो गीता युद्ध और हिंसा को धर्म बताती है। वो धर्म ग्रंथ नहीं। मेरे मानने से अम्बेडकर द्वारा लिखित संविधान ही उनके लिए राष्ट्रीय ग्रंथ हैं। उन्होंने कहा कि संविधान की रक्षा करने वाली अदालतों में जजों के सामने जिस गीता पर हाथ रख कर शपथ दिलायी जाती है, उसे ही उन्होंने कहा कि वह दुनिया के किसी भी ग्रंथ की पंक्ति में बैठने लायक नहीं है।

ये भी पढ़ें :-  रोहिंग्या मुस्लिमों पर अदालत में हलफनामा दाखिल करेंगे : राजनाथ सिंह

हालांकि ये वीडियो कब का है इस बारे में कोई आधिकारिक पुष्टी नहीं की गई है। 24HindiNews न्यूज़ भी इस वीडियो की पुष्टी नहीं करता है। उन्होंने आगे वीडियो में कहा, ‘मैं आज इस मंच से कहता हूं कि गीता को कचरे की डब्बे में फेंक देना चाहिए। गीता में लिखा है कि मैंने वर्ण व्यवस्था बनाई है, गीता कहती है कि ब्राह्मण श्रेष्ठ होते हैं हमें ब्राह्मणों की पूजा करनी चाहिए। गीता में महिलाओं को कनिष्ठ माना जाता है, हिंसा और युद्ध को धर्म कहती है। गीता समता को नकारती है, इंसानियत और महिला पुरुष में समानता को इंकार करती है। जो गीता हिंसा को धर्म बताती है उसे इस देश का राष्ट्रीय ग्रंथ तो क्या दुनिया के किसी भी ग्रंथ की जगह में बैठने के लायक भी नहीं है।

ये भी पढ़ें :-  पीएम मोदी ने अभिनेत्री अनुष्का शर्मा को स्वच्छता अभियान से जुड़ने का दिया न्योता, मिला ऐसा जवाब
लाइक करें:-
कमेंट करें :-
 

संबंधित ख़बरें

वायरल वीडियो

और पढ़ें >>

मनोरंजन

और पढ़ें >>
और पढ़ें >>