माकपा, कांग्रेस का मिलकर चुनाव लड़ना दोनों दलों के लिए भूल थी: ममता

May 20, 2016

पश्चिम बंगाल में दूसरे कार्यकाल के लिए भी बहुमत हासिल करने वाली तृणमूल कांग्रेस की अध्यक्ष ममता बनर्जी ने कहा कि माकपा और कांग्रेस का मिलकर चुनाव लड़ना दोनों ही दलों के लिए बड़ी भूल थी.

उन्होंने कहा कि जनता ने उनके खिलाफ विपक्ष की अफवाहों को खारिज कर दिया है.
विपक्ष पर सत्ता हासिल करने के लिए झूठ का जाल बुनने का आरोप लगाते हुए ममता ने कहा कि चुनाव प्रचार के दौरान प्रदेश की राजनीति ऐतिहासिक रूप से निचले स्तर पर चली गयी और सार्वजनिक रूप से मर्यादा बनाये रखने के लिए एक ‘लक्ष्मण रेखा’ निर्धारित होनी चाहिए.
ममता ने संवाददाताओं से कहा, ‘‘बंगाल की जनता ने उन्हें गुमराह करने की विपक्ष की कोशिशों को खारिज कर दिया है. जिस तरह से विपक्ष ने इस चुनाव में मेरे खिलाफ अफवाहें फैलाईं, जनता को वह रास नहीं आया. यह राजनीति और लोकतंत्र के लिए सही नहीं है.’’
उन्होंने मीडिया के एक स्थानीय वर्ग पर हमला बोलते हुए आरोप लगाया कि यह समूह तृणमूल पर अनुचित तरीके से निशाना साध रहा था और बेबुनियाद आरोप फैला रहा था.
तृणमूल के खिलाफ भ्रष्टाचार के आरोपों को मीडिया के एक वर्ग का दुष्प्रचार बताते हुए ममता ने कहा, ‘‘बंगाल में कोई भ्रष्टाचार नहीं है. बंगाल भ्रष्टाचार मुक्त राज्य है. लोगों ने आरोप को खारिज कर दिया.’’
उन्होंने कहा, ‘‘यह मा, माटी और मानुष का जादू है. लोग बहुत समझदार हैं. उन्होंने विपक्ष के आरोपों का जवाब दे दिया है.’’
जब ममता से पूछा गया कि क्या वह 2019 के लोकसभा चुनावों में महत्वपूर्ण राष्ट्रीय भूमिका की उम्मीद करती हैं तो उन्होंने सीधा जवाब नहीं देते हुए खुद को कम महत्वपूर्ण बताया और कहा, ‘‘मैं अपने देश और अपनी मातृभूमि को प्यार करती हूं.’’
ममता ने कहा कि तृणमूल कांग्रेस के चुने हुए विधायक शुक्रवार दोपहर 12:30 बजे बैठक करेंगे और अपने नेता का चुनाव करेंगे. उन्होंने कहा कि नयी सरकार 27 मई को शपथ लेगी.
तृणमूल कांग्रेस राज्य विधानसभा की 294 सीटों में से 215 पर आगे रहकर दो तिहाई बहुमत हासिल करने के करीब है. वामपंथी और कांग्रेस 72 सीटों पर वहीं भाजपा चार सीटों पर बढ़त बना रही है.
कांग्रेस-वाम गठबंधन के संबंध में तृणमूल अध्यक्ष ने कहा कि राष्ट्रीय राजनीति के दृष्टिकोण से माकपा और कांग्रेस का हाथ मिलना बड़ी भूल थी.
ममता ने कहा, ‘‘उन्होंने अपनी विचारधारा से समझौता किया. अगर आप अपनी विचारधारा से समझौता करते हैं तो सबकुछ खो देते हैं.’’
भाजपा के साथ अपनी पार्टी के संबंधों के बारे में पूछे जाने पर उन्होंने कहा, ‘‘भाजपा के साथ हमारे वैचारिक मतभेद हैं लेकिन हम जनता के लिए लाभकारी मुद्दों पर हमेशा उनका समर्थन करेंगे. हम जीएसटी का समर्थन करेंगे.’’
ममता ने कहा, ‘‘कोलकाता में कई सारे लोग वोट नहीं डाल सके क्योंकि उन्हें आतंकित किया गया था.’’
उन्होंने स्वतंत्र और निष्पक्ष मतदान संपन्न कराने के लिए चुनाव आयोग का आभार जताते हुए कहा, ‘‘पुलिस ने कुछ ज्यादती की. हमारे खिलाफ साजिशें रची गयीं. फिर भी हम विकास के मुद्दे पर जनता तक पहुंचे.’’
तृणमूल कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा कि किसी चुनाव में कोई जीतता है, कोई हारता है लेकिन किसी को अफवाह नहीं फैलानी चाहिए. मुझे गाली देने वालों को मैं शुभकामनाएं देती हूं. वे मेरे खिलाफ लड़ते रहें.
सिंगूर के जमीन के मुद्दे पर उन्होंने कहा कि मामला अदालत में है.
उन्होंने कहा, ‘‘लेकिन अगर टाटा 600 एकड़ में उद्योग लगाना चाहते हैं तो हमें कोई समस्या नहीं है.’’
उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और वित्त मंत्री अरुण जेटली ने तृणमूल कांग्रेस की जीत पर उन्हें बधाई दी है.
ममता ने कहा कि पार्टी जीत की खुशी मनाने के लिए 30 मई तक कई सांस्कृतिक समारोह आयोजित करेगी.

 अन्य ख़बरों से लगातार अपडेट रहने के लिए हमारे Facebook पेज को Join करे

लाइक करें:-
कमेंट करें :-
 

संबंधित ख़बरें

वायरल वीडियो

और पढ़ें >>

मनोरंजन

और पढ़ें >>
और पढ़ें >>