सांप्रदायिकता के जहर को खत्म करने के लिए गैर मुस्लिम भी रखें एक दिन रोजा: जस्टिस काटजू

Jun 07, 2016

“भारतीय प्रेस काउंसिल के पूर्व अध्यक्ष जस्टिस मार्कंडेय काटजू ने मंगलवार से शुरू हो रहे रमजान के महिने में सभी गैर मुस्लिमों से एक दिन रोजा रखने की अपील की है। काटजू ने ऐसा मुस्लिमों के साथ एकजुटता दिखाने और सांप्रदायिकता के जहर को खत्म करने के मकसद से कहा है।”
भारत में कल मंगलवार 7 जून से रमजान का पवित्र महिना शुरू हो जाएगा। कई अन्य देशों में यह महिना आज से ही शुरू हो गया है। इस महिने में 30 दिनों तक मुस्लिम समुदाय के लोग रोजा रखते हैं। रोजे में सुबह सुर्योदय से पहले से लेकर शाम में सुर्यास्त तक कुछ भी खाया पिया नहीं जाता है। सुप्रीम कोर्ट के पूर्व न्यायाधीश मार्कंडेय काटजू ने मुस्लिम समुदाय के लोगों के साथ-साथ सभी को रमजान के महिने की मुबारकबाद देते हुए कहा, पिछले कई सालों से मैं रमजान के महिने में एक दिन रोजा रखता आ रहा हूं। यह मेरे मुस्लिम भाइयों के प्रति एकजुटता के प्रतीक के तौर पर है। उन्होंने बताया, पिछले साल मैंने 4 जुलाई को अमेरिका के कैलिफोर्निया में रोजा रखा था और मैंने अमेरिका तथा अन्य जगहों पर कई दूसरे लोगों को भी इसके लिए तैयार किया।

काटजू ने इस साल भी दूसरे समुदाय के लोगों से रमजान के महिने में एक दिन रोजा रखने की अपील की है। इसके पीछे के मकसद के बारे में बताते हुए काटजू ने कहा, गैर मुस्लिमों द्वारा एक दिन रोजा रखना असल में सांप्रदायिकता के उस जहर को काटने की औषधियों में से एक है जो पहले अंग्रेजों और बाद में दूसरों द्वारा हमारे शरीर में भर दिया गया। उन्होंने कहा, इस साल मैंने दुनिया भर के गैर मुस्लिमों से रमजान के आखिरी जुमे 4 जुलाई को रोजा रखने की गुजारिश की है। उन्होंने लोगों से कहा, अपने मुस्लिम साथियों से सेहरी और इफ्तार का वक्त पता करें और पूरी तन्मयता से रोजा रखें। जस्टिस काटजू ने कहा, वह सभी गैर हिंदुओं से भी नवरात्र के दौरान उपवास रखने की अपील करते हैं।

आमतौर पर रमजान में मुस्लिम समुदाय के लोग ही रोजा रखते हैं। पर भारत में कई ऐसे गैर मुस्लिम भी हैं जो इस महिने के दौरान रोजा रखते हैं। उनका मानना है कि इससे उनको एक आध्यात्मिक शांति मिलती है और भूख और प्यास का महत्व भी पता चलता है। भारत की परंपरा ही साझी संस्कृति रही है। सालों से सभी समुदाय एक दूसरे के साथ मिल-जुलकर सभी त्योहार मनाते आए हैं। रमजान में देश के कई हिस्सों में हिंदू समुदाय के लोग मुसलमानों के लिए सेहरी और इफ्तार का प्रबंध कर भाईचारे की मिसाल पेश करते रहे हैं। बिहार के कई इलाकों में हर साल छठ पर्व के दौरान श्रद्धालुओं के लिए घाट जाने वाले रास्तों की सफाई कर मुस्लिम समुदाय के लोग भी अपनी तरफ से इस भाईचारे की भावना को मजबूत करते रहे हैं। जस्टिस काटजू जैसे लोगों की अपील एक स्वागतयोग्य अपील है।

अन्य ख़बरों से लगातार अपडेट रहने के लिए हमारे Facebook पेज को Join करे

लाइक करें:-
कमेंट करें :-
 

संबंधित ख़बरें

वायरल वीडियो

और पढ़ें >>

मनोरंजन

और पढ़ें >>
और पढ़ें >>