चीन ने पहली बार माना मुंबई में 26/11 हमले के पीछे पाकिस्तान का हाथ था

Jun 08, 2016

चीन ने पहली बार माना कि मुंबई में 26/11 हमले के पीछे पाकिस्तान का हाथ था. इसमें 164 लोगों ने अपनी जान गंवाई थी और 308 लोग घायल हुए थे.

चीन के सरकारी टेलीविजन पर हाल ही में एक डॉक्यूमेंट्री प्रसारित की थी, जिसमें लश्कर-ए-तैयबा और पाकिस्तान में उसके समर्थकों के बारे में बताया गया था.

चीन के इस बदलाव के बारे में अभी तो कुछ कहा नहीं जा सकता पर उसके इस फैसले को उसकी नीति में बदलाव के तौर पर देखा जा रहा है. चीन को आतंकवाद के मुद्दे पर पाक का साथ देने की वजह से अंतरराष्ट्रीय स्तर पर आलोचना का शिकार होना पड़ा था.

ये भी पढ़ें :-  तुर्की में विफल तख्तापलट को लेकर फिर 1000 संदिग्ध किये गए गिरफ्तार

गौरतलब है कि 26 नवंबर 2008 को मुंबई में हुए हमलों के आरोपी लखवी और हाफिज सईद को पाकिस्तान के साथ ही चीन का भी सपोर्ट मिलता रहा है. लखवी के खिलाफ संयुक्त राष्ट्र संघ में प्रस्ताव के खिलाफ चीन ने विरोध किया था.

पिछले दिनों भारत ने संयुक्त राष्ट्र में जैश प्रमुख मसूद अजहर को आतंकी घोषित करने की मांग की थी. भारत की इस मांग पर संयुक्त राष्ट्र समिति की बैठक में सभी 14 सदस्य सहमत थे. लेकिन सुरक्षा परिषद के स्थायी सदस्य चीन ने इसमें अड़ंगा लगा दिया था.

चीन ने पाकिस्तान का साथ देते हुए कहा था, “लखवी के खिलाफ पर्याप्त सबूत नहीं हैं.”

ये भी पढ़ें :-  अफगानिस्तान की 13 वर्षीय लड़की के पेट से, भारतीय डॉक्टरों ने निकली पिन

चीन ने कहा था, ”भारत और चीन दोनों आतंकवाद से पीड़ित देश हैं. इस मुद्दे पर दोनों देशों की राय एक जैसी है.” चीन ने कहा कि ”हम सभी तरह के आतंकवाद का विरोध करते हैं. लेकिन किसी खास मुद्दे की बात हो तो हमें चर्चा करनी होगी.”

चीन को शायद अब यह समझ आ रहा है कि आतंकवाद के मुद्दे पर पाकिस्तान का एकतरफा समर्थन करना उसकी साख के लिए खराब साबित हो सकता है इसलिए उसने अपनी रणनीति में बदलाव करते हुए ही यह कदम उठाया है.

अन्य ख़बरों से लगातार अपडेट रहने के लिए हमारे Facebook पेज को Join करे

ये भी पढ़ें :-  ब्रिटेन : इंडिपेंडेस पार्टी के घोषणापत्र में बुर्के पर प्रतिबंध का होगा वादा

 

लाइक करें:-
कमेंट करें :-
 

संबंधित ख़बरें

वायरल वीडियो

और पढ़ें >>

मनोरंजन

और पढ़ें >>
और पढ़ें >>