मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा, ताजमहल भारतीय संस्कृति का हिस्सा नहीं, वो तो बस एक इमारत है

Jun 16, 2017
मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा, ताजमहल भारतीय संस्कृति का हिस्सा नहीं, वो तो बस एक इमारत है

बिहार के दरभंगा में एक जनसभा को संबोधित करते हुए यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने वर्ल्ड फेमस ताज महल को संस्कृति का हिस्सा मानने से इनकार करते हुये कहा कि ताजमहल एक इमारत के सिवा कुछ नहीं है। मै ताजमहल को भारतीय संस्कृति का हिस्सा नहीं मानता।

उन्होंने आगे कहा कि भारत आने वाले विदेशी टूरिस्ट को ताजमहल और अन्य मीनारों की प्रतिमाएं भेंट करते थे जो भारतीय संस्कृति को परावर्तित नहीं करते हैं। लेकिन नरेंद्र मोदी का राज आने के बाद ये रिवाज बदल गयी है। अब मोदी सरकार के सत्ता में आने के बाद से विदेशी टूरिस्ट को भारत आने पर भगवद गीता और रामायण की प्रति भेंट की जाती है।

ये भी पढ़ें :-  योगी सरकार के मंत्री ने गैंगरेप को लेकर दिया शर्मनाक बयान, बोले- 'हादसे तो कभी-कभी हो जाते हैं'

वही ‘द टेलीग्राफ’ से बातचीत में पटना यूनिवर्सिटी की इतिहास की प्रोफेसर डेजी नारायण ने बताया कि मध्यकालीन और पूर्व आधुनिक काल को कुछ लोग भारतीय इतिहास का मुस्लिम युग मानते हैं। लेकिन यह बयान चौंकाने वाला है। जबकि पूरी दुनिया में ताजमहल को भारतीय धरोहर के रूप में पहचान मिली है । वहीँ देश के कुछ लोग भारतीय इतिहास को फिर से परिभाषित करना चाहते हैं और तथ्यों के साथ खिलवाड़ करना चाहते हैं। हालाँकि योगी के इस बयान पर देश के इतिहासकार उनका विरोध करते हैं।

लाइक करें:-
 

संबंधित ख़बरें

वायरल वीडियो

और पढ़ें >>

मनोरंजन

और पढ़ें >>
और पढ़ें >>