2050 तक देश को नई दिल्ली जितना बड़ा कचरा घर चाहिए : अध्ययन

Jun 25, 2017
2050 तक देश को नई दिल्ली जितना बड़ा कचरा घर चाहिए : अध्ययन

देश में इस समय लगभग सारा कचरा बिना पर्याप्त शोधन के यूं ही फेंका/बहाया जा रहा है और अगर यही हाल रहा तो 2050 तक देश से निकलने वाला कचरा इतना अधिक होगा कि उसे ठिकाने लगाने के लिए नई दिल्ली के क्षेत्रफल के आकार का कचरा घर चाहिए होगा। देश के अग्रणी उद्योग मंडल, एसोचैम ने एक अध्ययन के हवाले से रविवार को यह बात कही।

एसोचैम और अकाउंटिंग कंपनी ‘पीडब्ल्यूसी’ के संयुक्त अध्ययन के अनुसार, “भारत में चूंकि इस समय अधिकांश कचरा बिना शोधन के फेंका/बहाया जा रहा है, लिहाजा 2050 तक पूरे देश के कचरे के निष्पादन के लिए 88 वर्ग किलोमीटर भूमि की जरूरत होगी, जो नई दिल्ली महानगर परिषद के प्रशासनिक क्षेत्र के बराबर है।”

ये भी पढ़ें :-  वीडियो: झारखंड में विधायकों ने करवाई सामूहिक चुंबन प्रतियोगिता, हुआ विवाद

अध्ययन में कहा गया है, “और अंतत: इतनी बड़ी भूमि अगले 50 वर्षो तक किसी अन्य काम के लायक नहीं रह जाएगी, जब तक कि इसे अन्य कार्यो के लायक न बना लिया जाए।”

अनुमान के मुताबिक, 2050 तक भारत की आधी आबादी शहरी इलाकों में रहने लगेगी, परिणामस्वरूप हर साल पांच फीसदी कचरा बढ़ता जाएगा।

इस अनुमान के मुताबिक, 2021 तक देशभर में हर वर्ष निकलने वाला कुल कचरा 10.1 करोड़ टन, 2031 तक 16.4 करोड़ टन और 2050 तक 43.6 करोड़ टन हो जाएगा।

अध्ययन के अनुसार, देशभर से निकलने वाले कुल कचरे का 80 फीसदी हिस्सा 10 से 50 लाख तक की आबादी वाले प्रथम श्रेणी के महानगरों से निकलेगा।

ये भी पढ़ें :-  पहले मिटाई अपनी हवस की भूख, फिर लड़की पर मिट्टी का तेल डाल लगाई आग

अध्ययन में अनुमान के आधार पर कहा गया है कि देश के मध्यम श्रेणी के शहरों में इस समय प्रति दिन प्रति व्यक्ति 300 से 400 ग्राम कचरा निकलता है, जबकि बड़े शहरों के लिए यह मात्रा 400 से 600 ग्राम है।

अध्ययन में देश में कचरा प्रबंधन को प्रभावित करने वाले कारकों के रूप में अनुपयुक्त योजना, जटिल सांस्थानिक संरचना, कचरा प्रबंधन के लिए क्षमता की कमी और नगर निकायों को मिलने वाली सीमित धनराशि को रेखांकित किया गया है।

लाइक करें:-
 

संबंधित ख़बरें

वायरल वीडियो

और पढ़ें >>

मनोरंजन

और पढ़ें >>
और पढ़ें >>