डबल डिजिट विकास दर के लिए विश्र्व बैंक ने दिए सुझाव

Jun 22, 2016
विश्र्व बैंक के मुताबिक मॉनसून सामान्य रहने पर कृषि क्षेत्र की विकास दर अगर 3.5 प्रतिशत रहती है तो जीडीपी में अतिरिक्त 0.35 प्रतिशत वृद्धि हो सकती है।

जागरण ब्यूरो, नई दिल्ली। चालू वित्त वर्ष में भारत की विकास दर 7.6 प्रतिशत रहने की उम्मीद जताते हुए विश्र्व बैंक ने आर्थिक वृद्धि दर को दहाई के अंक में ले जाने के लिए कई महत्वपूर्ण सुधारों को लागू करने का सुझाव दिया है। बैंक का कहना है कि लगातार दो वर्ष तक मानसून कमजोर रहने के बावजूद भारत ने वित्त वर्ष 2015-16 में तेज विकास दर हासिल की है और मैन्युफैक्चरिंग व सेवा क्षेत्रों की उच्च वृद्धि रहने से नौकरियां सृजित हुई हैं।

ये भी पढ़ें :-  शेयर बाजार के शुरुआती कारोबार में मजबूती

पढ़ें –

विश्र्व बैंक के भारत में निदेशक ओनो रुहल ने ‘इंडिया डवलपमेंट अपडेट’ जारी करते हुए कहा कि भारत की संभावनाओं के संबंध में भरोसा करने के कई अच्छे कारण हैं। हालांकि दीर्घावधि में आर्थिक वृद्धि को जारी रखने के लिए निवेश की रफ्तार बढ़ानी होगी।

विश्र्व बैंक ने कहा कि वित्त वर्ष 2015-16 में मैन्युफैक्चरिंग की वृद्धि दर 7.4 प्रतिशत तथा सेवा क्षेत्र की 8.9 प्रतिशत रही जिससे शहरों में नौकरियां सृजित हुई। साथ ही मुद्रास्फीति काबू रही जिससे लोगों की वास्तविक आय में वृद्धि हुई। महंगाई नीची रहने से रिजर्व बैंक ने ब्याज दरों में कटौती की जिससे वित्तीय तंत्र से जुड़े शहरी परिवारों को फायदा हुआ।

ये भी पढ़ें :-  बचत खाताधारकों को आज से बड़ी राहत, अब हर हफ्ते निकाल सकेंगे इतने रुपये

पढ़ें-

विश्र्व बैंक ने कच्चे तेल की कीमतों में गिरावट होने पेट्रोलियम उत्पादों पर टैक्स बढ़ाने की सरकार की नीति का समर्थन करते हुए कहा कि केंद्र ने इससे प्राप्त हुए राजस्व को उपभोग पर खर्च होने देने के बजाय ढांचागत क्षेत्र में निवेश करने का अच्छा निर्णय किया है।

बैंक ने कहा कि मानसून सामान्य रहने से भी सरकार को एक अच्छा अवसर मिलेगा। हालांकि सरकार को ग्रामीण क्षेत्रों में बेहतर संपर्क सुविधा देने के साथ-साथ उवर्रक सब्सिडी को तर्कसंगत और शहरी क्षेत्रों में सेवाओं की डिलीवरी बेहतर बनाने पर जोर देना चाहिए।

पढ़ें-

विश्र्व बैंक का कहना है कि मानसून सामान्य रहने पर कृषि क्षेत्र की विकास दर अगर 3.5 प्रतिशत रहती है तो जीडीपी में अतिरिक्त 0.35 प्रतिशत वृद्धि हो सकती है। इसके अलावा ग्रामीण उपभोग बढ़ने और निर्यात में गिरावट थमने से भी विकास दर को बल मिलेगा।

ये भी पढ़ें :-  शेयर बाजारों में तेजी, सेंसेक्स 100 अंक ऊपर

विश्र्व बैंक के अनुसार यह रहेगी भारत की विकास दर

वित्त वर्ष विकास दर प्रतिशत

2016-17 7.6

2017-18 7.7

2018-19 7.9

लाइक करें:-
कमेंट करें :-
 

संबंधित ख़बरें

वायरल वीडियो

और पढ़ें >>

मनोरंजन

और पढ़ें >>
और पढ़ें >>
error: 24hindinews.com\'s content is copyright protected
error: 24hindinews.com\'s content is copyright protected