उर्जित पटेल होंगे RBI गर्वनर राजन के उत्‍तराधिकारी, जानें दस बड़ी बातें

Aug 22, 2016
उर्जित पटेल होंगे RBI गर्वनर राजन के उत्‍तराधिकारी, जानें दस बड़ी बातें
भारतीय रिजर्व बैंक के नये गर्वनर उर्जित पटेल का अर्थ जगत से पुराना संबंध है। वो रघुराम राजन के उत्तराधिकारी होंगे।

नई दिल्ली। भारतीय रिजर्व बैंक के गर्वनर रघुराम राजन की जगह अब उर्जित पटेल लेंगे। मौजूदा गवर्नर रघुराम राजन का कार्यकाल सितंबर माह में खत्म हो रहा है। आर्थिक जगत में इस बात पर बहस चल रही है कि ब्याज दरों के मसले पर क्या नए गवर्नर पुरानी नीति पर ही चलेंगे या वो किसी तरह का बदलाव करेंगे। उर्जित पटेल ते केन्य़ाई संबंधों पर चर्चा पर भाजपा सांसद सुब्रमण्यम स्वामी ने कहा कि इस तरह के मुद्दे को उठाने का कोई मतलब नहीं है।

जानें आरबीआई के 24वें गर्वनर का प्रोफाइल-

– डॉ राजन के करीबी लेफ्टिनेंट के तौर पर रहे, पटेल अभी भारतीय रिजर्व बैंक के डिप्टी गवर्नर हैं। 4 सितंबर को वे अपना त्रिवर्षीय कार्यकाल शुरू करने वाले हैं।

– 52 वर्षीय पटेल ने 2013 में भारतीय रिजर्व बैंक शामिल हुए थे और इस साल जनवरी में उन्हें दूसरा कार्यकाल दिया गया था। 2013 से वे केंद्रीय बैंक की मौद्रिक नीति विभाग को चला रहे हैं।

– 28 अक्टूबर, 1963 में जन्मे पटेल ने ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी से इकोनॉमिक्स में एम.फिल, येल यूनिवर्सिटी से इकोनॉमिक्स में पीएचडी किया है।

– भारतीय रिजर्व बैंक से जुड़ने से पहले पटेल बोस्टन कंसल्टिंग ग्रुप के सलाहकार थे। उन्होंने एक दशक तक अर्थ जगत में गुजारा है और रिलायंस इंडस्ट्रीज के अध्यक्ष भी रह चुके हैं।

– राजन की तरह, पटेल ने भी अमेरिका, म्यांमार और भारत समेत अनेक डेस्क पर 1990 के दशक में अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष में काम किया है। उन्होंने वित्त मंत्रालय के सलाहकार के तौर पर भी काम किया है।

– आरबीआई में पटेल ने उस पैनल का नेतृत्व किया है जिसके सूझाव पर रिजर्व बैंक के मॉनिटरी पॉलिसी फार्मूलेशन में कई आधारभूत बदलाव किए गए।

– 52 वर्षीय उर्जित रिजर्व बैंक में मॉनिटरी पॉलिसी संभाले रहे हैं और देश में महंगाई को काबू में रखने में उनका अहम योगदान माना जाता है।

– पटेल ने उस पैनल की अध्यक्षता की जिसने थोक मूल्यों की जगह खुदरा मूल्यों को महंगाई का नया मानक बनाए जाने सहित कई आधारभूत बदलाव किए।

– वित्त मंत्रालय के प्रत्यक्ष कर को लेकर बने टास्क फोर्स, भारतीय प्रतिस्पर्धा आयोग आदि में कार्य कर चुके हैं

– मुद्रास्फीति पर नियंत्रण के अलावा, पटेल को बैंक को बुरे कर्जों से भी उबारना होगा।

लाइक करें:-
कमेंट करें :-
 

संबंधित ख़बरें

वायरल वीडियो

और पढ़ें >>

मनोरंजन

और पढ़ें >>
और पढ़ें >>