अगस्त का महीना शेयर बाजार के लिए होता है बड़े उतार-चढ़ाव वाला, निवेशक रहे सतर्क

Aug 01, 2016
जुलाई के महीने में शेयर बाजार ने निवेशकों को 4 फीसदी का शानदार रिटर्न दिया। अब अगस्त का महीना शेयर बाजार के लिए कैसा रहेगा?

नई दिल्ली। जुलाई के महीने में शेयर बाजार ने निवेशकों को 4 फीसदी का शानदार रिटर्न दिया। अब अगस्त का महीना शेयर बाजार के लिए कैसा रहेगा? यह सवाल हर निवेशक के मन में है। विदेशी संस्थागत निवेशकों की ओर से जारी खरीदारी और जीएसटी के पास हो जाने की उम्मीद बाजार को पंख लगाएगी या बीते वर्षों की तरह अगस्त के महीने में बिकवाली हावी रहेगी? इन तमाम संकेतों के बीच बाजार के विशेषज्ञ निवेशकों को सतर्क रहकर सौदे बनाने की सलाह दे रहे हैं।

अगस्त का महीना बड़े उतार-चढ़ाव वाला

अगस्त का महीना शेयर बाजार की दृष्टि से बड़े उतार-चढ़ाव वाला रहता है। बीते वर्षों के आंकड़ों पर नजर डालें तो पिछले पांच में से 3 बार शेयर बाजार ने निवेशकों को निराश किया जबकि दो बार सकारात्मक रिटर्न देने में कामयाब रहे। मसलन, साल 2015 में अगस्त के महीने में बाजार के प्रमुख सूचकांक सेंसेक्स और निफ्टी 6.5 फीसदी से ज्यादा लुढ़क गए, जबकि 2014 में बाजार ने निवेशकों को 3 फीसदी का सकारात्मक रिटर्न दिया। इसी तरह 2013 में अगस्त के महीने में बाजार 5.80 फीसदी टूटे, जबकि 2012 में 0.60 फीसदी की मामूली बढ़त दर्ज की। 2011 में अगस्त का महीना शेयर बाजार के लिहाज से भारी बिकवाली वाला रहा नतीजतन प्रमुख सूचकांक निफ्टी और सेंसेक्स 8.80 फीसदी तक लुढ़क गए।

पढ़े,

विदेशी निवेशकों की बड़ी खरीदारी

जुलाई के महीने में 28 तारीख तक विदेशी संस्थागत निवेशकों ने भारतीय शेयर बाजार में 11,130 करोड़ रुपए की शुद्ध खरीदारी की। मार्च 2016 के बाद विदेशी निवेशकों की ओर से की गई सबसे बड़ी खरीदारी है। मार्च में विदेशी निवेशकों ने भारतीय शेयर बाजार में 23620 करोड़ रूपए की खरीदारी की थी। साथ ही डेट मार्केट में भी विदेशी निवेशक भारी खरीदारी कर रहे हैं। जुलाई महीने में विदेशी निवेशकों ने भारत के डेट मार्केट में 7382 करोड़ रुपए की खरीदारी की, जबकि जून और मई के महीने डेट मार्केट के लिहाज से खराब रहे थे। जून महीने में विदेशी निवेशकों ने कुल 6505 करोड़ रूपए की और मई में 5171 करोड़ रुपए की बिकवाली की थी।

बाजार में दिख सकती है तेजी

निष्ठी कंसल्टेंसी के प्रमुख राजेश शर्मा का मानना है कि विदेशी संस्थागत निवेशकों की ओर से अगर खरीदारी का यह सिलसिला अगस्त महीने में भी जारी रहा तो बाजार में एक बड़ी तेजी अगले कुछ हफ्तों में देखने को मिल सकती है। हालांकि इस तेजी को सपोर्ट घरेलू स्तर पर जीएसटी बिल के पास होने की उम्मीद और आने वाले अहम आंकड़ों से मिलेगा। इस तेजी का फायदा सबसे ज्यादा निफ्टी और सेंसेक्स में शुमार दिग्गज कंपनियों को होगा।

पढ़े,

क्या करें निवेशक?

राजेश शर्मा के मुताबिक बाजार में लंबी अवधि के लिए निवेश करने वाले निवेशकों को धीरे धीरे हर गिरावट पर खरीदारी करनी चाहिए। बाजार में इस महीने बड़े उतार-चढ़ाव देखने को मिलेंगे जिनमें मजबूत फंडामेंटल वाले शेयरों को लंबी अवधि के लिए चुना जा सकता है।

जबकि अगले कुछ हफ्तों के लिए सौदे बनाने वाले ट्रेडर्स के लिए राजेश की राय एकदम अलग है। उनका मानना है छोटी अवधि के लिए अभी बाजार में सौदे बनाने के अच्छे अवसर हैं। अगर ट्रेडर्स दिग्गज शेयरों की कंपनियों में सौदे बनाकर स्टॉपलॉस का ध्यान रखते हैं तो अच्छा मुनाफा कमा सकते हैं। ऐसे में ट्रेडर्स को राय अपने वित्तीय सलाहकार की सलाह से बाजार के चुनिंदा शेयरों में ट्रेड करने की है।

लाइक करें:-
कमेंट करें :-
 

संबंधित ख़बरें

वायरल वीडियो

और पढ़ें >>

मनोरंजन

और पढ़ें >>
और पढ़ें >>