म्युचुअल फंड्स ने बैंकिंग शेयर में घटाया निवेश, बढ़ता NPA बना वजह

Aug 19, 2016
जुलाई महीने के अंत में म्युचुअल फंड्स ने बैंकिंग सेक्टर में अपना निवेश घटाकर 82000 करोड़ रुपए कर दिया है।

नई दिल्ली। बैंकिंग सेक्टर में बढ़ रहे एनपीए के चलते म्युचुअल फंड भी इस क्षेत्र में अपना निवेश घटा रहे हैं। जुलाई महीने के अंत में म्युचुअल फंड्स ने बैंकिंग सेक्टर में अपना निवेश घटाकर 82000 करोड़ रुपए कर दिया है। विशेषज्ञों का मानना है कि बैंकिंग सेक्टर में लगातार बढ़ते एनपीए के कारण इस सेक्टर के शेयरों में म्युचुअल फंड्स का निवेश घटा है। हालांकि उनका यह भी मानना है कि फाइनेंनशियल सेक्टर का आकार देश में बहुत बड़ा है। इस कारण एक्सपोजर घटाने के बाद भी अन्य सेक्टर्स जैसे ऑटो, सॉफ्टवेयर की तुलना में बैकिंग शेयरों में म्युचुअल फंड्स का निवेस सबसे ज्यादा ही रहेगा।

सिक्योरिटी एक्सचेंज बोर्ड ऑफ इंडिया (SEBI) की ओर से उपलब्ध आंकड़ों के मुताबिक जून महीने में म्युचुअल फंड के कुल एसेट अंडर मैनेजमेंट (AUM) में 20.4 फीसदी एक्सपोजर बैंकिंग सेक्टर को था, जो जुलाई महीने में घटकर 19.86 फीसदी रह गया। रुपये के लिहाज से जून में म्युचुअल फंड्स ने बैंकिंग सेक्टर में कुल 93885 करोड़ रुपये का निवेश कर रखा था, जो जुलाई में घटकर 82042 करोड़ रुपए रह गया।

इससे पहले म्युचुअल फंड इंडस्ट्री के कुल AUM में बैकिंग सेक्टर का एक्सपोजर जनवरी माह में 78644 करोड़ रुपये, फरवरी में 71684 करोड़ रुपये, मार्च में 82196 करोड़ रुपये, अप्रैल में 85330 करोड़ रूपये और मई में 90014 करोड़ रुपये था। बैकिंग सेक्टर अभी भी फंड मैनेजर्स की पहली पसंद बना हुआ है। अभी भी फंड्स मैनेजर बैंकिंग सेक्टर पर कोई बिकवाली की सलाह नहीं दे रहे हैं। बैंकिंग के बाद फार्मा दूसरा ऐसा सेक्टर है जिस पर फंड मैनेजर्स बुलिश हैं।

लाइक करें:-
कमेंट करें :-
 

संबंधित ख़बरें

वायरल वीडियो

और पढ़ें >>

मनोरंजन

और पढ़ें >>
और पढ़ें >>