भारतीय तेल कंपनियों ने रूस में हिस्सेदारी खरीदी

Jun 20, 2016
भारत पेट्रोलियम और ऑयल इंडिया का एक कंसोर्टियम रूस के वेंकोर तेल क्षेत्र में 23.9 फीसद हिस्सेदारी खरीदेगा।

नई दिल्ली। सार्वजनिक क्षेत्र की तेल कंपनी इंडियन ऑयल कॉरपोरेशन (आइओसी) की अगुवाई में भारत पेट्रोलियम और ऑयल इंडिया का एक कंसोर्टियम रूस के वेंकोर तेल क्षेत्र में 23.9 फीसद हिस्सेदारी खरीदेगा। रूसी कंपनी रोजनेफ्ट से 2.1 अरब डॉलर में यह हिस्सेदारी खरीदी जाएगी। आइओसी के एक बयान के अनुसार इसके बारे में शुक्रवार को दोनों पक्षों के बीच समझौते पर हस्ताक्षर हो गए।

आइओसी के अनुसार दोनों पक्षों के बीच समझौते पर हस्ताक्षर रूस के सेंट पीटर्सबर्ग में हुई। पेट्रोलियम मंत्री धर्मेंद्र प्रधान की अध्यक्षता में एक भारतीय दल वहां दौरे पर है। यह दल सेंट पीटर्सबर्ग इंटरनेशनल इकोनॉमिक फोरम (एसपीआइईएफ) कार्यक्रम गुरुवार से शुक्रवार तक आयोजित किया गया। हाल में भारतीय तेल अन्वेषण कंपनी ओएनजीसी विदेश लि. (ओवीएल) ने वेंकोर फील्ड्स में 1.27 अरब डॉलर की कीमत में 15 फीसद हिस्सेदारी खरीदी थी।

इसके बाद प्रधान ने एक ट्वीट के जरिये कहा कि भारतीय कंसोर्टियम ने यह हिस्सेदारी खरीदी है। इससे पहले ओवीएल ने इसी तेल क्षेत्र में हिस्सेदारी अधिग्र्रहीत की थी। कंसोर्टियम में आइओसी और ओआइएल 8-8 फीसद और बीपीसीएल 7.8 फीसद हिस्सेदारी खरीदेगी। यह हिस्सेदारी रोजनेफ्ट की सहयोगी कंपनी जेएससी वेंकोनेफ्ट से खरीदी जाएगी। रूसी फेडरेशन के एक कानून के तहत यह कंपनी बनाई गई थी और उसे वेंकोर फील्ड का स्वामित्व दिया गया।

लाइक करें:-
कमेंट करें :-
 

संबंधित ख़बरें

वायरल वीडियो

और पढ़ें >>

मनोरंजन

और पढ़ें >>
और पढ़ें >>