शीर्ष 200 कंपनियां चीन की समकक्ष फर्मो से आगे

Aug 03, 2016
एसएंडपी ग्लोबल रेटिंग्स की ओर से जारी रिपोर्ट के मुताबिक भारत की शीर्ष दो सौ कंपनियों ने चीन की टॉप 200 फर्मो को लगभग पछाड़ दिया है।

सिंगापुर (प्रेट्र)। तमाम ढांचागत बाधाओं के बावजूद भारत की शीर्ष दो सौ कंपनियों ने चीन की टॉप 200 फर्मो को लगभग पछाड़ दिया है। एसएंडपी ग्लोबल रेटिंग्स की ओर से जारी रिपोर्ट में यह बात कही गई है। इस रेटिंग एजेंसी ने चीन और भारत की शीर्ष 200 कंपनियों की तुलना बाजार पूंजीकरण के आधार पर की है। रिपोर्ट के मुताबिक भारतीय अर्थव्यवस्था के विकास के लिए मजबूत इंफ्रास्ट्रक्चर की दरकार है।

रिपोर्ट में कहा गया है कि भारत और चीन के निजी क्षेत्रों के बीच भी काफी बड़ा अंतर है। शीर्ष 200 भारतीय कंपनियों के कुल शुद्ध कर्ज और कर पूर्व लाभ में निजी कंपनियों का योगदान 75 प्रतिशत है। चीन के मामले में टॉप 200 फर्मो का योगदान महज 20 फीसद है। रिटर्न और इसमें निरंतरता के लिहाज से भारत की निजी फर्मे देश की सरकारी व चीन की कंपनियों दोनों से आगे हैं।

एसएंडपी के क्रेडिट एनालिस्ट मेहुल सुकावला ने कहा, भारत के मुकाबले चीन की लिस्टेड कंपनियों में सरकारी दखल काफी ज्यादा है। इससे कंपनी की पूंजीगत लागत कम करने की क्षमता सीधे तौर पर प्रभावित होती है। उनका मुनाफा घटता और कर्ज का स्तर बढ़ता है। चीन व अन्य उभरती अर्थव्यवस्थाओं के मुकाबले ऊंची ब्याज दर के माहौल से भारतीय कंपनियां ज्यादा पीडि़त हैं। रेवेन्यू ग्रोथ के मुद्दे पर एसएंडपी को उम्मीद है कि दिग्गज 200 भारतीय कंपनियों की स्थिति और बेहतर होगी।

अलबत्ता भारत और चीन दोनों देशों की कंपनियों की कंपनियों के रेवेन्यू ग्रोथ में नीचे का रुख दिख रहा है। दोनों देशों की कंपनियों के पूंजीगत खर्चे ऊंचे स्तर पर पहुंच गए हैं। इसलिए कंपनियां अब नई क्षमता के विस्तार पर पुनर्विचार करना शुरू कर रही हैं। कई मामलों में विस्तार योजनाओं को रोक कर रख रही हैं।रिपोर्ट में कहा गया है कि भारत सरकार के महात्वाकांक्षी मेक इन इंडिया कार्यक्रम के लिए खराब बुनियादी ढांचा सबसे बड़ी बाधा है।

इस अभियान के जरिये सरकार देश को दुनिया का शीर्ष मैन्यूफैक्चरिंग हब बनाना चाहती है। पारंपरिक तौर पर बिजली से जुड़े बुनियादी ढांचे की कमजोरी अब कुछ मामलों में दूर होती दिख रही है। खास तौर पर बिजली उत्पादन और ट्रांसमिशन के क्षेत्र में सुधार आ रहा है।

लाइक करें:-
कमेंट करें :-
 

संबंधित ख़बरें

वायरल वीडियो

और पढ़ें >>

मनोरंजन

और पढ़ें >>
और पढ़ें >>