BSP पार्टी से तोड़ नाता, कहा अब कभी नहीं करूँगा ‘हाथी’ की सवारी: स्वामी प्रसाद मौर्य

Jun 23, 2016

लखनऊ: यूपी में सत्ता पाने की जुगत में लगी बहुजन समाज पार्टी को आज तगड़ा झटका लगा है। पार्टी के महासचिव तथा नेता विरोधी दल स्वामी प्रसाद मौर्य ने पार्टी से नाता तोड़ लिया है। विधानसभा में नेता विरोधी दल स्वामी प्रसाद मौर्य ने यहाँ लखनऊ में प्रेस कांफ्रेंस की। पार्टी के महासचिव स्वामी प्रसाद मौर्य ने पार्टी सुप्रीमो मायावती पर विधानसभा चुनाव 2017 के टिकट बेचने का गंभीर आरोप लगाया है। इसके बाद स्वामी प्रसाद मौर्य ने पार्टी छोडऩे का निर्णय लिया।

स्वामी प्रसाद स्वामी प्रसाद का आरोप है कि दौलत की बेटी मायावती ने संविधान के रचयिता बाबा साहेब डॉ. भीमराव अम्बेडकर के सपनों को जगह-जगह पर बेचा है। उन्होंने कहा कि बहुजन समाज पार्टी में दलितों की नहीं बल्कि दौलतमंदों की अधिक पूछ हो रही है। बीते कई चुनाव (2012 व 2014 ) बहुजन समाज पार्टी सौदेबाजी तथा टिकटों की बिक्री के कारण हारी है। स्वामी प्रसाद ने कहा कि मायावती बीजेपी को मजबूत करने में जुटी हैं। यह भी पढ़ें- नेता प्रतिपक्ष स्वामी प्रसाद मौर्य के खिलाफ गैरजमानती वारंट उन्होंने कहा कि अब बहुजन समाज पार्टी में उनको घुटन महसूस हो रही है।

ये भी पढ़ें :-  भारत वासियों के लिए खुशखबरी- 1000 के नोट की छपाई शुरू, जल्द बाजार में आने को तैयार

मायावती के राज में दलितों की जरा भी पूछ नहीं हैं। वह सिर्फ दिखावे के लिए अम्बेडकरवादी हैं और दिखावे के लिए ही अम्बेडकर जयंती मनाती हैं। वह तो दलितों के सपनों में पलीता लगाने का काम कर रही हैं। उन्होंने कहा कि बीते चुनाव में जिला पंचायत सदस्यों से खूब धन उगाही की गई है। अब बसपा में दलितों की कोई जगह नहीं है। इसी कारण से मैं पार्टी छोड़ रहा हूं।

प्रसाद मौर्या ने बसपा छोड़ कर पार्टी पर बड़ा एहसान किया मायावती भी आज लखनऊ में ही थी। उन्होंने भी बिना देर किये अपने आवास पर प्रेसवार्ता की और कहा की स्वामी प्रसाद मौर्या ने बसपा छोड़ कर पार्टी पर बड़ा एहसान किया है, वरना पार्टी इनको बाहर का रास्ता दिखाने वाली थी। मौर्या मुलायम सिंह की तरह परिवारवाद से ग्रस्त है वो अपने परिवार का बसपा पार्टी में एडजेस्टमेंट चाहते थे।

ये भी पढ़ें :-  'फ्रीडम 251' धोखाधड़ी : निदेशक मोहित गोयल गिरफ्तार

मायावती ने कहा की मुलायम के पुराने साथी हैं मौर्या। बसपा ने मौर्य के साथ उसके लड़के और बेटी को भी चुनाव लड़ाया था। चुनाव हारा था फिर भी हमने उसको अपने साथ रखा। मायावती ने पलटवार करते हुए पूछा की स्वामी बताएं कि वो खुद लड़े और अपनी बेटी- बेटे के टिकट लिए कितना पैसा दिया है। जो भी पार्टी छोड़ता है वो यही आरोप लगाता है कि मायावती टिकट बेचती है I हमने 2012 में इनके परिवार को टिकट दे कर ग़लती की थी।

अन्य ख़बरों से लगातार अपडेट रहने के लिए हमारे Facebook पेज को Join करे

 
लाइक करें:-
कमेंट करें :-
 

संबंधित ख़बरें

वायरल वीडियो

और पढ़ें >>

मनोरंजन

और पढ़ें >>
और पढ़ें >>
error: 24hindinews.com\'s content is copyright protected
error: 24hindinews.com\'s content is copyright protected