धौनी हुए भावुक, 13 साल बाद याद आई वो कहानी…

Jun 18, 2016
भारतीय टीम के कप्तान महेंद्र सिंह धौनी का जिम्बाब्वे के खास नाता रहा है। आखिर जिम्बाब्वे धौनी के लिए किस तरह से खास है।

नई दिल्ली। भारतीय वनडे और टी 20 क्रिकेट टीम के कप्तान महेंद्र सिंह धौनी जिम्बाब्वे में आयोजित एक कार्यक्रम के दौरान बेहद भावुक हो गए। उन्होंने जिम्बाब्वे को अपने करियर के लिए बेहद अहम बताया। आखिर ऐसा क्या हुआ था कि उन्होंने ऐसी बात कही।

धौनी का वो भावुक करने वाला बयान

महेंद्र सिंह धौनी ने कहा कि मेरे दिल में जिम्बाब्वे के लिए खास जगह है। मेरा इस जगह से खास नाता है। मेरा अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट करियर शुरू होने से पहले इसी जगह ने मुझे पहचान दिलाई। जिम्बाब्वे दौरे से ही मुझे क्रिकेट में पहचान मिली। ऐसे में मैं इस जगह को कैसे भूल सकता हूं। जिम्बाब्वे मेरे लिए हमेशा अहम रहेगा।

ये भी पढ़ें :-  ओलिंपिक पदक विजेता पहलवान को अखाड़े में बाबा रामदेव ने किया चित्त

13 साल पहले की वो कहानी

वर्ष 2013 में धौनी को पहली बार इंडिया ए टीम में जिम्बाब्वे और केन्या दौरे के लिए चुना गया था। जिम्बाब्वे इलेवन के खिलाफ हरारे स्पोर्ट्स मैदान पर धौनी ने बेहतरीन विकेट कीपिंग की थी और मैच में 7 कैच और 4 स्टंप किए थे। वहीं जिम्बाब्वे में तीन देशों के टूर्नामेंट जिसमें इंडिया ए के अलावा केन्या और पाकिस्तान ए टीम मौजूद थी धौनी ने शानदार बल्लेबाजी की थी। उस दौरे पर उन्होंने पाकिस्तान ए के खिलाफ शानादर अर्धशतक लगाया था साथ ही इसके बाद के मैचों में लगातार 120 रन और फिर नाबाद 119 रन की पारी खेली थी। धौनी ने वहां 6 पारियों में 72.40 की औसत से 362 रन बनाए थे। उनके इस प्रदर्शन के बाद उस समय भारतीय टीम के तत्कालीन कप्तान सौरव गांगुली और रवि शास्त्री समेत कई दिग्गजों की नजर में वो आए थे। हालांकि उस वक्त इंडिया ए टीम के कोच संदीप पाटिल ने भारतीय टीम में दिनेश कार्तिक को विकेट कीपर बल्लेबाज के तौर पर शामिल करने का सुझाव दिया था।

ये भी पढ़ें :-  वीडियो- शॉट मारते समय खिलाड़ी के हाथ से छूटा बल्ला, विकेटकीपर का टूट गया जबड़ा

लाइक करें:-
कमेंट करें :-
 

संबंधित ख़बरें

वायरल वीडियो

और पढ़ें >>

मनोरंजन

और पढ़ें >>
और पढ़ें >>
error: 24hindinews.com\'s content is copyright protected
error: 24hindinews.com\'s content is copyright protected