बीजेपी ने कहा ‘सिद्धू के लिए सभी रास्ते बंद, कोई नेता नहीं करेगा बात’

Jul 19, 2016

नई दिल्ली/चंडीगढ़ : पूर्व सांसद और क्रिकेटर नवजोत सिंह सिद्धू को लेकर बीजेपी ने सख्त तेवर अपना लिया है. एक तरफ जहां उनके इस्तीफे के बाद अलग-अलग अटकलें लगाई जा रही हैं वहीं बीजेपी ने साफ कर दिया है कि सिद्धू के लिए पार्टी में सभी रास्ते बंद कर दिए गए हैं. सूत्रों का कहना है कि पार्टी मान-मनौव्वल तो दूर अब उनके चाहने पर भी आने नहीं देगी.

सिद्धू से कोई भी बात नहीं करेगा

नाराजगी का अंदाजा इसी से लगाया जा सकता है कि सूत्रों के अनुसार बीजेपी आलाकमान ने अपने सभी नेताओं को हिदायत दे दी है कि सिद्धू से कोई भी बात नहीं करेगा. उधर, सिद्धू के आम आदमी पार्टी में जाने की अटकलों के बीच आप में भी विरोधी सुर उठने लगे हैं. संकेत मिल रहे हैं कि आप के अंदर भी सिद्धू को सीएम कैंडिडेट बनाने पर विरोध उठ सकता है.

बीजेपी नेता प्रभात झा का कहना है कि…

इससे पहले बीजेपी नेता प्रभात झा का कहना है कि सिद्धू ने इस्तीफा देकर ठीक नहीं किया, सिद्धू की हैसियत बीजेपी से है. इसी से अंदाजा लगा था कि बीजेपी इस बार सिद्धू को मनाने आदि का कोई प्रयास नहीं करेगी. इस बीच सिद्धू की पत्नी ने साफ किया कि राज्यसभा की सदस्या से इस्तीफा देने का मतलब ही यही है कि सिद्धू ने बीजेपी से भी इस्तीफा दे दिया है. इससे पहले यह साफ नहीं था कि उन्होंने बीजेपी की सदस्यता से इस्तीफा दिया है या नहीं.

इस्तीफे के साथ एक शपथ पत्र भी था

गौरतलब है कि इस्तीफे के साथ एक शपथ पत्र भी था जिसमे सिद्धू ने लिखा था कि उनका इस्तीफा तुरंत स्वीकार कर लिया जाए. उनपर पार्टी का दवाब पड़ सकता है ऐसे में उनको इस्तीफा वापस लेना भी पड़ सकता है और वे इस्तीफा वापस नहीं लेना चाहते हैं. सभापति ने भी शपथ पत्र के साथ इस्तीफे को स्वीकार कर लिया.

नवजोत सिद्धू केंद्र में मंत्री बनाये जाने का मुगालता पाल लिया था

सूत्रों का कहना है कि नवजोत सिद्धू केंद्र में मंत्री बनाये जाने का मुगालता पाल लिया था. मंत्री नहीं बनाए जाने से वे नाराज़ थे. आम आदमी पार्टी के सूत्रों का कहना है क़ि सिद्धू आम आदमी पार्टी में शामिल होंगे उनको मुख्यमंत्त्री का चेहरा भी बनाया जा सकता है लेकिन अभी ये तय नहीं किया है. अगले एक दो से तीन दिनों में आम आदमी पार्टी चंडीगड़ में नवजोत सिद्धू और उनकी पत्नी नवजोत कौर की आप में शामिल करने की घोषणा कर सकती है.

सिद्धू पहले खुद को पंजाब का प्रदेश अध्यक्ष बनाने की मांग कर रहे थे

सिद्धू पहले खुद को पंजाब का प्रदेश अध्यक्ष बनाने की मांग कर रहे थे. अकाली दल से गठबंधन तोड़ अकेले चुनाव लड़ने के पक्ष में थे. लेकिन, पार्टी ने तब उन्हें राज्य सभा में भेजने का वायदा कर सिद्धू को अपनी मांग से पीछे हटने पर मज़बूर कर दिया था. लेकिन, सिद्धू आप के संपर्क में आ चुके थे और उनकी पत्नी नवजोत कौर लगातार आम आदमी पार्टी के संपर्क में थी.

अन्य ख़बरों से लगातार अपडेट रहने के लिए हमारे Facebook पेज को Join करे

लाइक करें:-
कमेंट करें :-
 

संबंधित ख़बरें

वायरल वीडियो

और पढ़ें >>

मनोरंजन

और पढ़ें >>
और पढ़ें >>