भाजपा-आरएसएस के लोग घोल रहे साम्प्रदायिकता : मायावती

May 24, 2017
भाजपा-आरएसएस के लोग घोल रहे साम्प्रदायिकता : मायावती

बहुजन समाज पार्टी की राष्ट्रीय अध्यक्ष मायावती ने सहारनपुर में लगातार जारी जातीय हिंसा के लिए योगी सरकार को जिम्मेदार ठहराया है। उन्होंने कहा कि भाजपा एवं आरएसएस के जातिवादी तत्व सामाजिक भाईचारे को बिगाड़ने के लिए सरकारी मशीनरी का भी दुरूपयोग कर रहे हैं।

सहारनपुर से मंगलवार को लौटने के बाद मायावती ने कहा कि भाजपा व आरएसएस के जातिवादी शरारती व आपराधिक तत्व पहले से ही साम्प्रदायिकता का जहर घोल रहे हैं। सत्ता में आने के बाद जातिवादी हिंसा पर उतारू हो गये हैं। इसी का परिणाम है कि सहारनपुर में जातीय हिंसा व संघर्ष थम नहीं पा रहा है। प्रशासन की मिलीभगत से निर्दोष लोगों को हिंसा का शिकार बनाया जा रहा है और उनकी हत्यायें भी की जा रही हंै।

ये भी पढ़ें :-  देश के 'फर्जी बाबाओं' की लिस्ट जारी करने वाले महंत मोहन दास ट्रेन से हुए लापता

उन्होंने कहा, “मंगलवार को हमने शब्बीरपुर गांव के दौरा कर लोगों से शान्ति व आपसी भाईचारे की अपील की थी। परन्तु प्रशासन की लापरवाही के कारण बीजेपी-समर्थकों ने दलितों पर जानलेवा हमला किया। इसमें एक की जान चली गयी व कई अन्य की हालत गम्भीर है।”

मायावती ने बसपा के राष्ट्रीय महासचिव सतीश चन्द्र मिश्र, प्रदेश अध्यक्ष राम अचल राजभर, विधानसभा में बी.एस.पी. दल के नेता लालजी वर्मा एवं पार्टी के पूर्व मंत्री इन्द्रजीत सरोज को अधिकृत किया है कि वे लोग मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से मिलकर इस पूरी घटना की जानकारी देकर पीडितों को आर्थिक सहायता दिलाने का काम करें।

ये भी पढ़ें :-  शर्मनाक: पहले प्रेमी के साथ बनाया शारीरिक संबंध फिर रची साजिश, खुले ये चौकाने वाले राज

मायावती ने कहा कि प्रदेश में भाजपा सरकार बनने के बाद अपराध नियंत्रण व कानून-व्यवस्था जबर्दस्त बदहाल हुई है। भगवा ब्रिगेड को हर प्रकार की साम्प्रदायिक व जातिवादी जुल्म-ज्यादती व हिंसा एवं हत्या आदि करने की खुली छूट मिल गयी है, इसे लेकर मंगलवार को सहारनपुर गई तो उन्हें अच्छा नहीं लगा। उन्होंने कहा कि बी.एस.पी. मूवमेन्ट के कारण देश व खासकर उत्तर प्रदेश आदि के दलित समाज के लोग अपने संवैधानिक हक व सत्ता की मास्टर चाबी प्राप्त करने के लिये काफी जोरदार तरीके से संघर्षरत हैं।

लाइक करें:-
 

संबंधित ख़बरें

वायरल वीडियो

और पढ़ें >>

मनोरंजन

और पढ़ें >>
और पढ़ें >>